दो मानसूनी सिस्टम के बीच से गुजर रही दो द्रोणिकाओं का संयोजन कई जगहों पर करा सकता है भारी बारिश

- मौसम विभाग ने 16 जिलों में कहीं-कहीं भारी से बेहद भारी बारिश का जताया पूर्वानुमान, यलो अलर्ट जारी

 

By: praveen malviya

Published: 11 Sep 2021, 10:33 PM IST

भोपाल. प्रदेश से गुजर चुका सिस्टम पूर्वी राजस्थान में कम दबाव के क्षेत्र के रूप में बना हुआ है वहीं बंगाल की खाड़ी में नया कम दबाव का क्षेत्र भी शनिवार को बन गया। अरब सागर से पूर्वी राजस्थान के सिस्टम और बंगाल की खाड़ी तक दो द्रोणिकाएं फैली हुई हैं जो प्रदेश से गुजर रही हैं। चार मानसूनी कारकों केइस संयोजन से प्रदेश के कुछ जिलों में भारी बाशि की आशंका बन रही है। मौसम विभाग ने 16 जिलों में कुछ स्थानों पर बेहद भारी बारिश की आशंका व्यक्त की है।

शुक्रवार से शनिवार के बीच बीते 24 घंटों में रीवा में तीन इंच, सागर में दो इंच, इंदौर, रायसेन और मंडला में सवा-सवा इंच, सिवनी में एक इंच से अधिक, होशंगाबाद और श्योपुरकला में एक-एक इंच, दतिया में पौन इंच, सतना में आधे इंच से कुछ अधिक तो खजुराहो में आधा इंच बारिश हुई। इसके अतिरिक्त ग्वालियर, छिंदवाड़ा, रतलाम, सीधी, खंडवा, धार और टीकमगढ़ में पांच से सात मिमी बारिश दर्ज हुई।

बारिश की गतिविधियां दिन में कुछ कम रहीं और शाम 5.30 बजे तक धार में सवा इंच तो शाजापुर में आधा इंच बारिश दर्ज हुई। गुना, सागर, भोपाल में तीन से पांच मिमी की मामूली बारिश दर्ज हुई।

दो छोर पर दो कम दबाव के क्षेत्र, गुजर रही दो द्रोणिकाएं

मौसम विशेषज्ञों ने बताया कि, बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बन गया है वहीं प्रदेश से गुजर चुका सिस्टम पूर्वी राजस्थान में बना हुआ है। दोनों सिस्टमों के बीच दो द्रोणिकाएं सक्रिय हैं। दो सिस्टम और दो द्रोणिकाओं के असर से प्रदेश के कई इलाकों में भारी बारिश का अनुमान है।

भारी से भारी बारिश का यलो अलर्ट

मौसम विभाग ने रविवार सुबह तक अनूपपुर, डिंडोरी, कटनी, जबलपुर, नरसिंहपुर, छिंदवाड़ा, सिवनी, मंडला, बालाघाट, सीहोर, झाबुआ, शाजापुर, मंदसौर, नीमच एवं गुना जिलों में कहीं-कहीं भारी से अति भारी बारिश की आशंका व्यक्त करते हुए यलो अलर्ट जारी किया है।

praveen malviya Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned