scriptYou know what is the Bhojshala controversy, why is it in the headline | आप जानते हैं क्या है भोजशाला विवाद, फिर से क्यों है सुर्खियों में ? | Patrika News

आप जानते हैं क्या है भोजशाला विवाद, फिर से क्यों है सुर्खियों में ?

लंदन से लाई जाए वाग्देवी की मूर्ति, नमाज पर रोक की मांग

भोपाल

Published: May 13, 2022 07:07:17 pm

भोपाल. मध्यप्रदेश के धार भोजशाला का पुराना विवाद एक बार फिर कोर्ट की दहलीज पर पहुंच गया है। हिंदू फ्रंट फ़ॉर जस्टिस नामक संगठन की और से लगाई गई उस याचिका को इंदौर हाई कोर्ट ने स्वीकार कर लिया है जिसमे यह मांग की गई थी कि परिसर में मुसलमानों के नमाज पढ़ने पर रोक लगा दी जाए और हिंदुओं को वहां नियमित रूप से पूजा करने की अनुमति दी जाए।

bhojshala_controversy_again_in_headlines.png

सदियों सर चले आ रहे भोजशाला विवाद को लेकर हिंदू और मुस्लिम पक्ष के लोगों के अलग-अलग मत हैं। हिंदुओं का दावा है कि इस जगह देवी सरस्वती का मंदिर था जिसे सरस्वती सदन के नाम के नाम से जाना जाता था। 1456 ई में महमूद खिलजी ने सरस्वती सदन में मौलाना कमालुद्दीन की दरगाह बना दी। 1857 में सरस्वती सदन की खुदाई में वाग्देवी की मूर्ति मिली। 1880 में भोपावर पॉलिटिक्स एजेंट मेजर किनकेड मूर्ति को लंदन ले गया। 1909 में धार रियासत ने भोजशाला परिसर को संरक्षित स्मारक घोषित कर दिया। 1935 में दिवान ने भोजशाला को मौलाना कमालुद्दीन की मस्जिद बताते हुए नमाज पढ़ने की अनुमति दे दी और फिर आजादी के बाद यह विवादित परिसर पुरातत्व विभाग के अधीन हो गया।

इसके अलावा याचिकाकर्ताओ की और से भोजशाला से लंदन ले जाई गई वाग्देवी की मूर्ति को भी वापस लाने की मांग की गई है। बुधवार को मामले की पहली सुनवाई के दौरान हाई कोर्ट ने राज्य सरकार, केंद्र सरकार, पुरातत्व विभाग और मौलाना कमालुद्दीन ट्रस्ट समेत अन्य पक्षकारों को नोटिस जारी करके जवाब मांगा है।

अभी प्रशासन ने हिंदुओं को प्रत्येक मंगलवार को पूजा करने के साथ ही मुसलमानों को शुक्रवार की नमाज अदा करने की इजाजत दे रखी है, हर साल बसंत पंचमी के मौके पर यहां सरस्वती जन्मोत्सव मनाया जाता है लेकिन इसी दौरान शुक्रवार की नमाज और बसंत पंचमी अगर एक ही दिन पड़ जाती है, तो विवाद की स्थिति बन जाती है।

bhojshala_dhar.png

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट से मंदिर-मस्जिद के सबूतों का नया अध्याय, एक्सक्लूसिव रिपोर्ट सिर्फ पत्रिका के पास, जानें क्या है इन सर्वे रिपोर्ट में...दिल्ली हाई कोर्ट से AAP सरकार को झटका, डोर स्टेप राशन डिलीवरी योजना पर लगाई रोकसुप्रीम कोर्ट का फैसला: रोड रेज केस में Navjot Singh Sidhu को एक साल जेल की सजा, जानें कांग्रेस नेता ने क्या दी प्रतिक्रियाGST पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, जीएसटी काउंसिल की सिफारिश मानने के लिए बाध्य नहीं सरकारेंIPL 2022 RCB vs GT live Updates: पावर प्ले में गुजरात 2 विकेट के नुकसान पर 38 रनों पर6 साल की बच्ची बनी AIIMS की सबसे कम उम्र की ऑर्गन डोनर; 5 लोगों को दिया नया जीवनGyanvapi Masjid-Shringar Gauri Case: सुप्रीम कोर्ट में 20 मई और वाराणसी सिविल कोर्ट में 23 मई को होगी सुनवाईपंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ BJP में शामिल, दिल्ली में जेपी नड्डा ने दिलाई पार्टी की सदस्यता
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.