युवा हमेशा अपनी समस्याओं का समाधान दूसरे से चाहता है

युवा हमेशा अपनी समस्याओं का समाधान दूसरे से चाहता है

hitesh sharma | Publish: Sep, 11 2018 10:01:20 PM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India

स्वामी विवेकानंद के शिकागों उद्बोधन के 125 साल पूरे होने पर युवा संवाद आयोजित

भोपाल। यंग थिंकर्स फोरम और बीयू द्वारा समाजशास्त्र विभाग में स्वामी विवेकानंद के शिकागों उद्बोधन के 125 साल पूरे होने पर आयोजित युवा संवाद में आयोजित व्याख्यान में स्वामी सुप्रदीप्तानंद ने कहा कि प्रतिस्पर्धा के आधार पर हम कभी भी बौद्धिक स्तर मजबूत नहीं कर सकते।

प्रतिस्पर्धा समाज को एक नया आयाम नहीं दे सकती। उन्होंने कहा कि आज के समय में युवाओं को अपना लक्ष्य केंद्रित कर अपनी ऊर्जा को सकारात्मक दिशा में लगाना होगा, विवेकानंद ने भी यही किया था। इस मौके पर युवाओं ने भी इस विषय पर पैनल डिस्कशन में अपने विचार रखे। पैनल में मैनिट से आकाश जायसवाल, ओरिएंटल कॉलेज से नेहा और नूतन कॉलेज की छात्रा कोपल ने स्वामी विवेकानंद के व्यक्तित्व एवं उनके जीवन दर्शन पर विचार व्यक्त किए।

 

 

young thinkers conclve

कार्यक्रम में बीयू के कुलपति प्रो. डीसी गुप्ता, शुभम चौहान सहित कई लोग मौजूद रहे। स्वामी सुप्रदीप्तानंद ने आगे कहा कि युवा हमेशा अपनी समस्याओं का समाधान दूसरे से चाहता है, जबकि वह स्वयं से संवाद स्थापित कर उस समस्या को खत्म कर सकता है। हम जिज्ञासाओं के आधार पर ही हम एक अच्छे विमर्श की शुरुआत कर सकते हैं। जब तक कोई भी छात्र या प्रतिभा जिज्ञासु नहीं होगी वे चिंतन परंपरा एवं विमर्श को आगे नहीं बढ़ा सकती। विवेकानंद ने भी यही कार्य किया।
सोशल मीडिया की बजाए तीन घंटे धार्मिक ग्रंथों को दे तो समाज की बुराई खत्म हो जाएगी ।

सोशल मीडिया की बजाए तीन घंटे धार्मिक ग्रंथों को दे तो समाज की बुराई खत्म हो जाएगी
इधर, शासकीय मोतीलाल विज्ञान महाविद्यालय में दो दिवसीय युवा उत्सव का आयोजन हुआ। आयोजन के दूसरे दिन कई प्रतियोगिताएं आयोजित की गई जिनमें एकल गायन, समूह गायन, वाद विवाद एवं हास्य नाटिका आदि विधाओं के प्रतिभागियों ने सहभागिता की। एकल गायन में कामाक्षी राजोरिया द्वारा भूमरो भूमरो गीत की प्रस्तुति दी गई जो आकर्षण का केंद्र रहा। इसके पश्चात आयोजित वाद विवाद प्रतियोगिता में 16 छात्रों ने सहभागिता की।

 

youth fest

वाद-विवाद प्रतियोगिता में सोशल नेटवर्किंग समाज के लिए हानिकारक या लाभदायक विषय पर छात्रों ने अपने विचार रखते हुए कहा। सानिया खान ने कहा कि एलकेजी के बच्चों के प्रोजेक्ट से लेकर लॉ की पढ़ाई तक हर जगह सोशल मीडिया का बहुत महत्व है। विपक्ष का प्रतिनिधित्व करते हुए अभिलाष ठाकुर ने बताया कि जो उम्र युवाओं की पन्ना धाय का राष्ट्रप्रेम, झांसी की रानी का बलिदान एवं महाराणा प्रताप का साहस जानने की थी, उस उम्र को हमने प्रिया प्रकाश, ढिंचक पूजा, एवं सोनम गुप्ता को चर्चित करने में गंवा दिया। यदि हम सोशल मीडिया की बजाए तीन घंटे गीता या कुरान को पढऩे में लगा देते तो समाज की बुराइयां स्वत: ही समाप्त हो जाती।

Ad Block is Banned