मलकानगिरि:माओवादियों ने पुलिस मुखबिर बताकर की आदिवासी की हत्या, अन्य दो लहुलुहान

माओवादियों ने ऐलानिया कहा कि अगर किसी ने उनके खिलाफ पुलिस में मुखबिरी की तो उनका भी यही हाल किया जाएगा। माओवादियों ने गांव वालों से कहा कि पुलिस से दूरी बनाकर रखें

By: Prateek

Published: 01 Jul 2019, 05:18 PM IST

(भुवनेश्वर,महेश शर्मा): ओडिशा माओ प्रभावित जिला मलकानगिरि में माओवादियों ( Naxalite In malkangiri ) की इच्छा के विपरीत विकास कार्यों को सहयोग देने के आदिवासियों के निर्णय के दूसरे ही दिन माओ हिंसा शुरू हो गई। माओवादियों ने पुलिस ( Odisha Police ) का मुखबिर बताते हुए एक आदिवासी की हत्या कर दी तथा दो को निर्ममता पूर्वक पीट-पीटकर लहुलुहान करके गांव भेज दिया। इस घटना को लेकर जिले में दहशत फैल गई है। सुरक्षा बलों की गश्त बढ़ा दी गई है।


शुक्रवार के दिन माओवादियों ने पुलिस मुखबिरी के शक में तीन ग्रामीणों का अपहरण किया था। बाद में तीनों को रविवार के दिन शाम को जंगल में ही प्रजा अदालत बुलाकर तीनों पर माओवादियों के विरोध में पुलिस को सुचना देने के आरोप लगाए गए। मृतक बुजा खबासी नामक आदिवासी की सबके सामने गला रेत कर हत्या कर दी गई और जिले के मैथिल पुलिस थाना क्षेत्र में कुकुराकुंडी गांव की सड़क पर आदिवासी ग्रामीण का शव फेंक दिया गया था। इसके अलावा मासा सोदी और उन्गा कलमाली आदिवासियों की बुरी तरह पिटाई करके छोड़ दिया।


बताते हैं कि माओवादियों ने ऐलानिया कहा कि अगर किसी ने उनके खिलाफ पुलिस में मुखबिरी की तो उनका भी यही हाल किया जाएगा। माओवादियों ने गांव वालों से कहा कि पुलिस से दूरी बनाकर रखें। माओवादियों की प्रजा अदालत में मलकानगिरि और छत्तीसगढ़ के माओ काडर मौजूद थे।

ओडिशा की ताजा ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करे...

 

यह भी पढे: मलकानगिरि:माओवादियों से निपटने को आदिवासियों ने लिया निहत्थी जंग का फैसला

Show More
Prateek Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned