चांदीपुर में स्वदेशी सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का सफल परीक्षण

चांदीपुर में स्वदेशी सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का सफल परीक्षण
brahmos file photo

| Publish: Jul, 16 2018 03:58:29 PM (IST) Bhubaneswar, Odisha, India

बालासोर जिले में चांदीपुर में स्वदेशी सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का
सोमवार को 10 बजकर 18 मिनट पर सफल परीक्षण किया गया।

(महेश शर्मा की रिपोर्ट)
भुवनेश्वर/चांदीपुर। मिसाइल क्षेत्र में एक और सफल परीक्षण करके भारत अपनी स्वदेशी हथियारों की अपनी ताकत में खासा इजाफा किया है। ओडिशा के लासोर जिले में चांदीपुर में स्वदेशी सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का सोमवार को 10 बजकर 18 मिनट पर सफल परीक्षण किया गया। उल्लेखनीय है कि इसी मई में डीआरडीओ ने ब्रह्मोस मिसाइल की आयुसीमा 10 से 15 साल तक बढ़ाने के लिए परीक्षण किया था। ब्रह्मोस डीआरडीओ और रूस के एनपीओएम के संयुक्त प्रयास का नतीजा है। यह मिसाइल साउंड की स्पीड से तीन गुना ज्यादा स्पीड से उड़ान भर सकती है।

 

ब्रह्मपुत्र और मस्कवा पर नामकरण


12 जून 2001 में ब्रह्मोस का पहला परीक्षण हुआ था। इसका नाम भारत की ब्रह्मपुत्र नदी और रूस की मस्कवा नदी के नाम पर रखा गया है। ब्रह्मोस भारत की ऐसी पहली मिसाइल है, जिसका जीवनकाल 10 से 15 वर्षों तक बढ़ाया गया है। सूत्रों ने बताया कि इस सफल परीक्षण से भारतीय सशस्त्र बलों के बेड़े में शामिल मिसाइलों के प्रतिस्थापन लागत में काफी कमी आएगी। भारतीय थल सेना और जल सेना ने पहले ही ब्रह्मोस को 2007 में अपने बेड़े में शामिल कर लिया है। 22 मार्च 2018 में हवा से हवा में मार करने वाली क्षमता आंकने के लिए इसका परीक्षण राजस्थान के पोखरण में सुखोई विमान में लैस करके दागने के साथ किया गया था।

 

सुखोई विमानों पर एकीकृत करने के प्रयास

 

रक्षा सूत्रों के मुताबिक भारत-रूस के इस संयुक्त वेंचर के साथ ब्रह्मोस मिसाइल की रेंज को 400 किलोमीटर तक बढ़ाया जा सकता है। इस मिसाइल के 40 सुखोई विमानों पर एकीकृत करने का काम चल रहा है जिसके 2020 तक पूरा होने के आसार है। यह देश की सबसे आधुनिक और दुनिया की सबसे तेज क्रूज मिसाइल है। यह क्रूज मिसाइल पहाड़ों की छाया में छुपे दुश्मनों के ठिकानों को निशाना बना सकती है। यह एक ऐसी खुफिया सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है जिसे पनडुब्बियों, जहाजों, विमानों या जमीन से प्रक्षेपित किया जा सकता है। इसे तीनों सेनाओं में शामिल किया जा चुका है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned