ओडिशा में यूं आई Coronavirus संक्रमितों की बाढ़, गंजाम में हालत खराब

Odisha News: स्वास्थ एवं परिवार कल्याण विभाग के मुताबिक राज्य में कोरोना एक्टिव मामले (Many Migrants Are Coronavirus Positive In Odisha) बढ़कर (Coronavirus in odisha)...

By: Prateek

Published: 09 May 2020, 09:23 PM IST

(भुवनेश्वर): ओडिशा में शनिवार को 24 कोरोना पॉजिटिव मरीज पाए गए। इनमें सबसे ज्यादा 18 गंजाम के हैं। पॉजिटिव मामले पाए जाने वाले जिले में नयागढ़ जिला शामिल हो गया है। ओडिशा के कुल 30 जिलों में से 19 जिलों में कोरोना फैल चुका है। सरकार ने तीन वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों की एक महीने तक गंजाम जिले में ड्यूटी लगा दी है। इसके अलावा सात सदस्यीय विशेषज्ञ दल भी भेजा है जिसमें डब्ल्यूएचओ, स्वास्थ विभाग के लोग हैं।


मरीजों की संख्या बढ़कर कुल 294 हो गई हैं। शनिवार को मिले पॉजिटिव मरीजों में से सभी सूरत से लौटे थे और इनमें कोरोना के लक्षण साफ झलक रहे थे। ये सभी युवा आयुवर्ग के हैं। सबसे छोटा 16 साल का है तो सबसे बड़ा 45 साल का है। बीते 24 घंटों में 3,348 सैंपल टेस्ट किए गए। अब तक ओडिशा में टेस्ट किए जाने की संख्या बढ़कर 56,322 हो गई हैं।


स्वास्थ एवं परिवार कल्याण विभाग के मुताबिक राज्य में कोरोना एक्टिव मामले बढ़कर 224 हो गए हैं जबकि 68 लोग ठीक होकर अपने घरों को भेजे जा चुके हैं। दो कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मृत्यु हो चुकी है। गंजाम में 18 केस मिले हैं जबकि मयूरभंज में 3 तथा नयागढ़, भद्रक और सुंदरगढ़ में क्रमशः एक-एक पॉजिटिव केस मिले हैं। सरकार ने सात सदस्यीय उच्चस्तरीय टीम को गंजाम भेजा है। टीम का नेतृत्व स्वास्थ सेवाओं के निदेशक कर रहे हैं। इसमें विश्व स्वास्थ संगठन (डब्ल्यूएचओ), आसीएमआर, आरएमआरसी के प्रतिनिधि हैं। यह टीम निरुद्ध क्षेत्र, एमकेसीजी मेडिकल कालेज और जिला प्रशासन से चिकित्सा और क्वारिंटाइन सेंटरों में प्रवासी श्रमिकों को रहने को लेकर बातचीत करेंगे।

कोरोना पॉजिटिव की जिलेवार गिनती इस प्रकार है। गंजाम में सबसे ज्यादा 89 पॉजिटिव मामले पाए गए हैं। लगभग सभी गुजरात से आए प्रवासी श्रमिक बताए जाते हैं। इसके बाद जाजपुर जिले का नंबर आता है जहां पर 55 कोरोना पॉजिटिव हैं जिनका इलाज चल रहा है। फिर खोरदा जिला जिसमें भुवनेश्वर टाउन भी आता है, वहां पर 50 पॉजिटिव मामले पाए गए। बालासोर और भद्रक में क्रमशः 27 और 25 कोरोना पॉजिटिव केस हैं। सुंदरगढ़ में 13, केंद्रपाड़ा में 8, मयूरभंज में 7, जगतसिंहपुर में 5, कालाहांडी, बलंगीर, केंदुझर, कटक में क्रमशः 2-2 तथा देवगढ़, पुरी, ढेंकानाल, कोरापुट व नयागढ़ में एक-एक मामला पाया गया।

 

क्वारंटाइन सेंटर में मौत

सूरत से लौटे 40 साल के प्रवासी श्रमिक की क्वारंटाइन सेंटर में मौत हो गई। बताया जाता है कि उसे कोरोना के लक्षण पाए जाने पर धुंकापाड़ा पंचायत क्षेत्र के एक क्वारंटाइन सेंटर में भेजा गया था। वह मधुपल्ली गांव का रहने वाला था। वह स्पेशल श्रमिक ट्रेन से गंजाम जिले लौटा था। बताते हैं कि लंच के बाद करीब 2.30 बजे उसकी मौत हो गई। उसमें कोरोना के लक्षण थे जिसकी उसने शिकायत भी की थी। समय पर एंबुलेंस नहीं पहुंची। उसका स्वाब सैंपल नहीं लिया जा सका। उसकी शिकायत पर पुलिस की मदद से उसे अस्पताल ले जाया गया। आरटीआई एक्टिविस्ट जयंत दास ने इस मामले की शिकायत मानवाधिकार आयोग में याचिका दायर करके की है। उनका कहना है कि लक्षण पाए जाने के बाद भी इलाज क्यों नहीं किया गया।

Show More
Prateek Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned