डीजीपी ने सौंपी रिपोर्ट,अब इस दिन होगा गुरूप्रिया पुल का लोकार्पण

पहले भी निर्माण पूरा होने और लोकार्पण की तारीख बढती रही हैं...

By: Prateek

Published: 24 Jul 2018, 08:07 PM IST

(पत्रिका ब्यूरो,भुवनेश्वर): माओ प्रभावित मलकानगिरि जिले के गुरुप्रिया पुल का लोकार्पण मुख्यमंत्री नवीन पटनायक 26 जुलाई को करेंगे। पहले लोकार्पण 18 जुलाई को होना था जिसे स्थगित कर दिया गया था। माओवादियों ने लोकार्पण नहीं करने देने की धमकी और एक दिवसीय बंद का आह़वान किया था।


पहले निर्माण टला अब लोकार्पण

पहले भी निर्माण पूरा होने और लोकार्पण की तारीख बढती रही हैं। ऐन मौके पर फिर लोकार्पण कार्यक्रम स्थगित हो जाए तो बड़ी बात न होगी। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के कहने पर पुलिस महानिदेशक आरपी शर्मा ने हाल ही में यहां का निरीक्षण किया था। स्थानीय खुफिया तंत्र भी सक्रिय कर दिया था। सूत्रों ने बताया कि पुलिस महानिदेशक शर्मा की रिपोर्ट के बाद 26 जुलाई लोकार्पण की तारीख तय की गई।

 

माओ प्रभावित क्षेत्र को जोड़ता है आबादी क्षेत्र से

यह पुल माओ प्रभावित क्षेत्र चित्रकोंडा को शेष आबादी वाले क्षेत्रों से जोड़ता है। माओवादियों के दबाव के कारण गुरुप्रिया पुल के निर्माण की पांच बार डेड लाइन बढ़ायी जा चुकी है। बीते साल सितंबर की डेड लाइन तय की गई थी। इसके बाद यह नवंबर तक बढ़ा दी गई। फिर फरवरी 2018 तक डेड लाइन बढ़ाई गई। इसके बाद मार्च 2018 और अब अप्रैल 2018 तक डेड लाइन निर्धारित की गई थी।


सूत्र बताते हैं कि निर्माण कंपनी को अब तक 68 करोड़ रुपया दिया जा चुका है। चित्रकोंडा एमएलए दम्बारू सिसा का दावा है कि यह पुल बनने से लोगों को बहुत सुविधा होगी। पुल बना तो चित्रकोंडा की 9 पंचायतों के 154 गांव बाहरी आबादी से जुड़ जाएंगे। इनमें 30 हजार आबादी रहती है। इन सबका आवागमन नावों से होता है। बरसात में हालत और भी खस्ता हो जाती है। अर्द्धसैनिक बलों की भी नावें गश्त करती हैं। पुल पूरा होने से ये समस्याएं समाप्त हो जाएंगी।

यह भी पढे: लोकपाल की नियुक्त पर केंद्र का रवैया ढुलमुल, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- दाखिल करें नया हलफनामा

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned