scriptSymbol of a big leap in Odisha's journey: Patnaik | ओडि़शा की यात्रा में एक बड़ी छलांग का प्रतीक: पटनायक | Patrika News

ओडि़शा की यात्रा में एक बड़ी छलांग का प्रतीक: पटनायक

locationभुवनेश्वरPublished: Feb 10, 2024 04:56:31 pm

Submitted by:

Rabindra Rai

ओडि़शा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने कहा कि यह दिन औद्योगिक उत्कृष्टता और सतत वृद्धि की दिशा में राज्य की यात्रा में एक बड़ी छलांग का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि राज्य विकास की राह पर तेजी से आगे बढ़ रहा है। आने वाले दिनों में राज्य का चौतरफा विकास होगा। वे जेएसडब्ल्यू समूह के राज्य सरकार के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर के अवसर पर बोल रहे थे।

ओडि़शा की यात्रा में एक बड़ी छलांग का प्रतीक: पटनायक
ओडि़शा की यात्रा में एक बड़ी छलांग का प्रतीक: पटनायक
इलेक्ट्रिक वाहन और कलपुर्जा विनिर्माण संयंत्र स्थापित करेगा समूह
ओडि़शा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने कहा कि यह दिन औद्योगिक उत्कृष्टता और सतत वृद्धि की दिशा में राज्य की यात्रा में एक बड़ी छलांग का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि राज्य विकास की राह पर तेजी से आगे बढ़ रहा है। आने वाले दिनों में राज्य का चौतरफा विकास होगा। वे जेएसडब्ल्यू समूह के राज्य सरकार के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर के अवसर पर बोल रहे थे। जेएसडब्ल्यू समूह ने ओडिशा में 40,000 करोड़ रुपए के निवेश से ईवी परियोजना स्थापित करने के लिए राज्य सरकार के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। समूह कटक जिले में इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) और कलपुर्जा विनिर्माण संयंत्र स्थापित करेगा। इसके अलावा जगतसिंहपुर जिले के पारादीप में तांबा स्मेल्टर और लिथियम रिफाइनरी स्थापित की जाएगी।
--
दो शहरों में विकास की रूपरेखा तैयार
राज्य मंत्रिमंडल के इन दोनों परियोजनाओं के लिए एक विशेष प्रोत्साहन पैकेज को मंजूरी देने के दो सप्ताह बाद समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। राज्य के दो शहरों में इन एकीकृत परियोजनाओं के विकास की रूपरेखा तैयार की गई। यह कदम जेएसडब्ल्यू समूह द्वारा भारत में तेजी से बढ़ते ईवी बाजार के लिए एक महत्वपूर्ण प्रतिबद्धता का प्रतीक है, जहां इसका उद्देश्य घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय दोनों निर्माताओं के साथ प्रतिस्पर्धा करना है।
--
इलेक्ट्रिक कारों की हिस्सेदारी बढ़ाने की कवायद
नवंबर में समूह ने चीन कंपनी के साथ एक संयुक्त उद्यम में प्रवेश किया था, जिसमें हरित गतिशीलता समाधानों के विकास और भारत में इलेक्ट्रिक वाहन पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ाने पर जोर दिया गया। ओडिशा में परियोजनाओं को चरणों में निष्पादित किया जाना तय है, क्योंकि कंपनी भारतीय ईवी बाजार में एक महत्वपूर्ण उपस्थिति बनाना चाहती है।
पिछले साल भारत की कारों की बिक्री में इलेक्ट्रिक वाहनों की हिस्सेदारी लगभग 2 फीसदी थी। भारत सरकार ने कुल कारों की बिक्री में इलेक्ट्रिक कारों की हिस्सेदारी को 30 फीसदी तक बढ़ाने का एक महत्वाकांक्षी लक्ष्य निर्धारित किया है, जो देश के ऑटोमोटिव क्षेत्र में विद्युतीकरण की दिशा में एक अहम पड़ाव होगा।

ट्रेंडिंग वीडियो