छत्तीसगढ़ के सीआरपीएफ जवानो को भी लग गयी है पबजी की लत, बिहार रेंज ने किया बैन

इसे खेलने वालों को इसकी लत (Addiction) लगती जा रही है। कई सारे अपराध (Crime) भी इस गेम के वजह से हो चुके हैं और आये दिन इसे प्रतिबंधित करने की मांग भी उठती रहती है।

By: Deepak Sahu

Published: 16 May 2019, 08:33 PM IST

सुकमा. पूरी दुनिया में ऑनलाइन गेम पबजी (Pubg mobile game) खेलने वालों की संख्या तेजी से बढ़ती ही जा रही है और इसे खेलने वालों को इसकी लत लगती जा रही है। कई सारे अपराध (Crime) भी इस गेम के वजह से हो चुके हैं और आये दिन इसे प्रतिबंधित करने की मांग भी उठती रहती है। इस बार इस गेम की लत का शिकार छत्तीसगढ़ में नक्सली मोर्चे पर तैनात सीआरपीएफ (CRPF) के जवान हो गए हैं। जिसके कारण प्रयाप्त नींद नहीं ले पा रहे है।

बिहार रेंज ने किया बैन

इसकी गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सीआरपीएफ के बिहार रेंज ने सभी डीआरजी को पत्र लिखकर उनके इलाकों में तैनात जवानों के मोबाइल फोन से पबजी गेम को डिलीट करने का फरमान जारी कर दिया है।

जवान की खुद की गोली लगने से हो गयी थी मृत्यु

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के जवान की बुधवार को उनके ही राइफल से दुर्घटनावश लगी गोली से मृत्यु हो गयी थी। जवान की पहचान हेड कांस्टेबल (Head Constable)अरविन्द पांडेय के रूप में हुई है। वह बिहार के चम्पारण जिले के रहने वाले थे और सीआरपीएफ के 150 वी बटालियन के जवान थे और सुकमा में उनकी तैनाती थी।

पबजी खेलने के नुकसान
छत्तीसगढ़ के नक्सल (Naxal) प्रभावित इलाकों में बड़ी संख्या में सीआरपीएफ के अलावा फोर्स के जवानों के लिए मोबाइल गेम पबजी मुसीबत का कारण बन गया है। जवानों में इसे लेकर दीवानगी लगातार बढ़ती जा रही है और कई जगह पर तो यह लत (Addiction) में तब्दील हो रही है। अफसरों का कहना है कि इसकी वजह से जवानों की एकाग्रता में कमी आ सकती है।

Show More
Deepak Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned