10 दिन में दूसरी नक्सली वारदात: बीजापुर में नक्सलियों से मुठभेड़, 5 जवान शहीद, 12 घायल

- धुर नक्सल प्रभावित तर्रेम के जंगलों में तीन घंटे गोलीबारी
- कुछ जवानों के मिसिंग होने की भी है खबर, बढ़ सकता है हताहतों का आंकड़ा
- 2000 जवान नक्सलियों से मोर्चा लेने गए थे जंगल
- घायलों को लेने जगदलपुर से भेजा गया सेना का हेलीकॉप्टर
- महिला नक्सली समेत 2 के मारे जाने का दावा

By: Ashish Gupta

Published: 03 Apr 2021, 10:19 PM IST

बीजापुर. छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बीजापुर जिले के धुर नक्सल प्रभावित तर्रेम के जोनागुड़ा के जंगल में शनिवार को दोपहर हुई पुलिस जवानों और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में कई जवानों के शहीद होने की खबर है। डीजीपी डीएम अवस्थी ने 5 जवानों के शहीद होने और 12 जवानों के घायल होने की पुष्टि की है। पर जानकर सूत्रों के मुताबिक शहीद जवानों की संख्या बढ़ सकती है। पुलिस के मुताबिक शहीदों में एक कोबरा, दो डीआरजी और दो बस्तर बटालियन के जवान शामिल हैं। शहीद जवानों के शव तथा घायलों को लाने सेना के दो एमआई 17 हेलीकाप्टर घटना स्थल के लिए रवाना किए गए है। पुलिस ने महिला नक्सली समेत दो नक्सलियों के मारे जाने का दावा किया है।

सूत्रों के मुताबिक कुछ जवानों के मिसिंग होने की भी खबर आ रही है जो कि देर शाम तक अपने कैम्पों में नही पहुंचे थे। बीजापुर के एस पी कमलोचन कश्यप ने बताया कि इलाके में नक्सलियों की मौजूदगी की जानकारी मिलने के बाद डीआरजी, कोबरा, सीएएफ, डीएफ की संयुक्त टीमें तर्रेम के लिए रवाना की गई थीं। उन्होंने मुठभेड़ की पुष्टि करते हुए कहा कि इलाके में फोर्स द्वारा बड़ा ऑपरेशन लांच किया गया था। एसपी ने मुठभेड़ की तो पुष्टि की है, पर नुकसान के बारे में पूरी जानकारी न होने की बात कही है।

उन्होंने बताया कि धुर नक्सल प्रभावित होने के कारण इलाके में नेटवर्क की समस्या है, इससे अभी पूरी जानकारी मिलने का इंतजार करना होगा। बता दें कि तर्रेम वह इलाका है जहां नक्सलियों ने 90 के दशक में आईईडी विस्फोट कर पहली बार पुलिस वाहन को उड़ा दिया था। इस घटना में दो दर्जन से अधिक जवान शहीद हुए थे। बीते माह 23 मार्च को नारायणपुर में नक्सलियोंं ने आईईडी ब्लास्ट से सुरक्षाबलों की बस को उड़ा दिया था जिसमें 5 जवान शहीद हो गए थे।

पांच दिशाओं से निकली थीं पुलिस जवानों की पार्टी
सूत्रों के मुताबिक यह मुठभेड़ तर्रेम से 10 किमी आगे जोनागुड़ा इलाके में हुई है। इसके लिए पांच थाना क्षेत्र से पुलिस टीमें अलग-अलग दिशाओं से रवाना की गई थीं जिसमें पामेड़ से 195 जवान,मीनपा से 483, नरसापुर से 420,तर्रेम से 702 तथा उसूर से 200 जवान सहित लगभग 2000 हजार से अधिक जवान रवाना किये गए थे। तर्रेम की टीम नक्सलियों के एम्बुश में फंस गई थी। इसी टीम के साथ सबसे पहले नक्सलियों की मुठभेड़ हुई है। पांच जवानों की शहादत इसी टीम के साथ हुई बताई जाती है।

तीन घंटे तक चली मुठभेड़, कमांडर हिड़मा कर रहा था नेतृत्व
बताया जाता है कि नक्सली कमांडर हिड़मा खुद इस मुठभेड़ में शामिल था। उसकी बटालियन के साथ-साथ नक्सलियों की सीआरसी और बटालियन की कम्पनी नम्बर 1 के लड़ाके भी वहां मौजूद थे। बताया जाता है कि दोनों पक्षों के बीच भीषण गोलीबारी हुई है, जो कि दोपहर 12 से 3 बजे तक चली। इसमें मोर्टार, एच ई बम भी चलाये गए हैं। इस मुठभेड़ के बाद घटनास्थल पर एक महिला नक्सली का शव भी बरामद हुआ है।

Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned