मौत के 6 साल बाद किसान नेता स्वः चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत के खिलाफ कोर्ट ने भेजा गैर जमानती वारंट

Iftekhar Ahmed

Publish: Sep, 17 2017 07:41:56 (IST)

Bijnor, Uttar Pradesh, India
मौत के 6 साल बाद किसान नेता स्वः चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत के खिलाफ कोर्ट ने भेजा गैर जमानती वारंट

कोर्ट ने ये गैर जमानती वारंट बिजनौर में 30 मार्च 2008 को किसान उत्पीड़न के विरोध में आयोजित पंचायत के दौरान टिकैत की ओर से पूर्व सीएम मायावती पर अभद्र

बिजनौर. भारतीय किसान यूनियन के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वर्गीय चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत के खिलाफ बिजनौर डिस्ट्रिक्ट कोर्ट ने गैर जमानती वारंट जारी किया है। कोर्ट ने ये गैर जमानती वारंट बिजनौर के दारानगर गंज में 30 मार्च 2008 को किसान उत्पीड़न के विरोध में आयोजित पंचायत के दौरान स्वर्गीय टिकैत की ओर से पूर्व मुख्यमंत्री बसपा सुप्रीमो मायावती के खिलाफ अभद्र टिपणी मामले में जारी किया है। ये वारंट 9 साल बाद जारी हुआ है, जबिक चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत का 15 मई 2011 में ही निधन हो चूका है।

बिजनौर के वरिष्ठ अधिवक्ता ने इस वारंट को कोर्ट का प्रोसीजर बताया है। उनके मुताबिक टिकैत के घर वालों की तरफ से ध्यान न देने व सम्बंधित थाने द्वारा डेथ सर्टिफिकेट को समय से कोर्ट में न भेजने के कारण कोर्ट ने ये वारंट जारी किया है। इस वारंट को लेकर 23 सितम्बर को कोर्ट में तारीख लगी है। इसे देखते हुए स्वर्गीय टिकैत के पुत्र राकेश सिंह टिकैत ने डेथ सर्टिफिकेट अधिवक्ता को भेज दिया है।

2008 में प्रदेश में बसपा की सरकार थी और यूपी की कमान बसपा सुप्रीमो मायावती प्रदेश संभाल रही थी। उसी दौरान मुज़फ्फरनगर के सिसौली गांव में भारतीय किसान यूनियन के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष महेंद्र सिंह टिकैत एक पंचायत में शामिल हुए थे। इसी दौरान उन्होंने किसानों को सम्बोधित करते हुए मायावती खिलाफ उस समय तीखी टिपणी की थी। इस तीखी टिपणी को लेकर बिजनौर और मुज़फ्फरनगर की पुलिस बाबा टिकैत को उस समय गिरफ्तार नहीं कर पाई थी। हालांकि, बाबा टिकैत ने पुलिस के उच्च अधिकारियों के निवेदन पर बिजनौर कोर्ट में सरेंडर कर दिया था, जिसके बाद उन्हें इस टिपणी मामले में बिजनौर कोर्ट से जमानत मिल गई थी। उधर, बाबा टिकैत के 6 वर्ष पहले स्वर्ग सिधारने के बाद कोर्ट ने इस मामले में एक गैर जमानती वारंट शनिवार को जारी किया था। गैर जमानती वारंट जारी होने पर बिजनौर के वरिष्ठ अधिवक्ता प्रवीण देशवाल ने बताया की कोर्ट ने प्रोसिडिंग के तहत ये एनबीडब्लू वारंट मृतक टिकैत जारी किए हैं। कोर्ट में समय से पैरवी न होने और मुज़फ्फरनगर के सिसौली थाने की लापरवाही के चलते उनका डेथ सर्टिफिकेट कोर्ट में न पहुंचने के कारण बिजनौर कोर्ट से गैर जमानती वारंट जारी हुआ है। 23 सितम्बर को इस मामले में कोर्ट में तारीख है, जिसमें टिकैत के बेटे द्वारा दिए गए डेथ सर्टिफिकेट को जमा करने की बाद इस केस को खत्म माना जाएगा।



Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned