पंचायत चुनाव में खत्म हो गया ठेकों का स्टॉक, 15 दिनों में सात लाख लीटर देसी शराब गटक गए लोग

पंचायत चुनाव के चलते उम्मीदवारों ने जमकर खरीदी देसी शराब। मार्च महीने में 100 करोड़ की शराब व बीयर गटक गए थे जनपदवासी। जनपद की अधिकांश देसी शराब की दुकानों पर स्टॉक खत्म है।

By: Rahul Chauhan

Published: 16 Apr 2021, 04:09 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

बिजनौर। यूपी में हो रहे पंचायत चुनाव के चलते वोटरों को शराब बांटने का काम भी तेजी से चल रहा है। यही कारण है कि बिजनौर जिले में ज्यादातर देसी शराब के ठेकों का स्टॉक खत्म हो चुका है। आलम यह है कि महीने भर का स्टॉक महज कुछ दिनों में ही खत्म होने से शराब की दुकानों पर ताले लटके हुए हैं। दरअसल, जनपद में देसी शराब की कुल 195 की दुकाने हैं। आबकारी विभाग के मुताबिक इन सभी दुकानों का 1 महीने का कोटा 9 लाख लीटर शराब का है। लेकिन अप्रैल माह में पंचायत चुनाव के चलते शराब की डिमांड में तेजी देखने को मिली है। यही कारण है कि जिन देसी शराब के ठेकों का टारगेट पूरा नहीं हो रहा था, उन पर भी इस समय शराब का एक पव्वा तक नहीं बचा है। अधिकांश दुकानें पूरी तरह से खाली हो गई हैं।

यह भी पढ़ें: पंचायत चुनाव के पहले चरण में करीब 71 प्रतिशत हुआ मतदान, जानें कहां पड़े कितने फीसद वोट

मीडिया रिपोर्ट की मानें तो जनपद की करीब 100 दुकानों पर देसी शराब का स्टॉक पूरी तरह खत्म हो चुका है। वहीं कई दुकानों पर कुछ ही पेटी बची हुई हैं। बताया जा रहा है कि कोतवाली देहात कस्बे में स्थित देसी शराब की दुकानों पर तीन दिन से ताला लगा हुआ है। वहीं महेश्वरी जट्ट की भी दुकान पर शराब नहीं मिली रही है। इसके अलावा रामपुर, फुलसंदा, गुनिया पुर आदि आसपास के क्षेत्रों में स्थित किसी भी देसी शराब की दुकान पर स्टॉक नहीं है। जिससे यही अनुमान लगाया जा रहा है कि पंचायत चुनाव के चलते उम्मीदवारों ने वोटरों को पिलाने के लिए सभी ठेकों के स्टॉक को खरीद लिया है। इतना ही नहीं, रिपोर्ट की मानें तो जनपद में मौजूद देसी शराब के चार गोदामों पर भी स्टॉक खत्म हो चुका है।

15 दिन में सात लाख लीटर देसी शराब गटक गए लोग

आबकारी विभाग के मुताबिक देसी शराब के ठेकों पर महज 15 दिन में लोग 7 लाख लीटर शराब लेकर गटक गए हैं। वहीं जानकारों का कहना है कि इसके पीछे कारण पंचायत चुनाव है। वोटरों को लुभाने के लिए उम्मीदवारों ने जमकर शराब पिलाई है। वहीं अनुमान लगाया जा रहा है कि जनपदवासियों द्वारा गटकी गई 7 लाख लीटर देसी शराब की कीमत 28 करोड़ रुपये बैठती है। जिसे सिर्फ 15 दिन में ही पी लिया गया।

यह भी पढ़ें: मतदान के दौरान ही तीन लोगों की मौत, एंबुलेंस से शव को भेजा पोस्टमार्टम के लिए

मार्च में 100 करोड़ की शराब बिकी थी

गौरतलब है कि मार्च महीने में होली का त्योहार होने के चलते जनपद में खूब शराब बिकी थी। आबकारी विभाग द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक मार्च में अंग्रेजी शराब, बीयर और देसी शराब को मिलाकर कुल 100 करोड़ रुपये की शराब की बिक्री हुई थी। अकेले देसी शराब ही मार्च में 65 करोड़ रुपये की बिकी थी।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned