बिजनौर में ईट भट्टे पर काम करने वाले गरीब परिवार की बच्ची को उठा ले गया गुलदार

Highlights

  • अगले दिन उत्तराखंड के जंगलों से मिला बच्ची का शव
  • गुलदार की दहशत में भट्टे पर काम करने वाले अन्य परिवार
  • घर के पास खेल रही थी बच्ची, इसी दाैरान उठा ले गया गुलदार

By: shivmani tyagi

Updated: 16 Oct 2020, 04:29 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क, बिजनौर ( Bijnor ) बच्चों के साथ खेल रही एक बच्ची को गुलदार उठा ले गया और अपना निवाला बना लिया। बच्ची ईट भट्टे पर काम करने वाले मजदूर परिवार की थी। अगले दिन बच्ची का शव उत्तराखंड के जंगलों से मिला।

यह भी पढ़ें: सावधान: त्याैहारी सीजन में बाजार में उतारी गई नकली घी की खेप ! पकड़ा गया दस कुंतल नकली घी

इस घटना के बाद बच्चे के परिवार का रो-रो कर बुरा हाल है और अन्य परिवार दहशत में हैं। गुलदार बच्ची काे उठा ले गया है जब इस बात का पता चला ताे इकट्ठा हुए लोगों ने आसपास के क्षेत्रों में बच्ची और गुलदार की काफी तलाश की लेकिन काेई सफलता नहीं मिली। अगले दिन बच्ची का शव उत्तराखंड के रायपुरी बॉर्डर के पास जंगल में पड़ा मिला। उत्तराखंड पुलिस ने बच्ची के शव का पंचनामा भरकर उसे पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया है।

यह भी पढ़ें: कोरोना काल में स्कूलों में नहीं होंगी ये Activities, क्लास भी दो शिफ्टों में चलेंगी

बिजनाैर के थाना रेहड़ के जंगल के पास स्थित सनस्टार भट्टे पर कई परिवार ईंट बनाने का काम करते हैं। यह भट्टा बीच जंगल में है और यहां रहने वाले परिवारों के सदस्यों की सुरक्षा के काेई खास इंतजाम नहीं है। घटना गुरुवार देर शाम की है। अन्य बच्चों के साथ खेल रही दस वर्षीय फिजा काे जंगल से आए गुलदार ने अपने जबड़ों में जकड़ लिया और उठा ले गया। यह देख अन्य बच्चों ने शाेर मचा दिया माैके पर पहुंचे लाेगाें ने तलाश करते हुए वन विभाग काे अफसरों काे घटना की सूचना दी लेकिन रात तक काेई सफलता नहीं मिली।

यह भी पढ़ें: आवाज खो चुके भाई की गवाही ने बहन के हत्यारे दरिंदों को दिलाई फांसी की सजा

शुक्रवार को रायपुरी बॉर्डर से बच्ची की लाश मिली । उत्तराखंड क्षेत्र के थाना प्रभारी अमित कुमार ने बताया कि ईंट भट्टा जंगलों के बीच में है। फिजा नाम की एक बच्ची शाम को खेल रही थी तभी गुलदार ने बच्ची को अपना निवाला बना लिया था। बच्ची की लाश आज उत्तराखंड के बॉर्डर पर मिली है। बच्ची के शव का पंचनामा भरकर शव का पीएम कराया जा रहा है।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned