सीएम योगी के आदेशों की धज्जियां उड़ा यहां हो रहा है अवैध खनन

सीएम ने प्रदेश से अवैध खनन को पूरी तरह खत्म करने की बात कही थी लेकिन बिजनौर का ये नजारा तो योगी की बातों को ठेंगा दिखा रहा है।

By: pallavi kumari

Updated: 22 Aug 2017, 03:35 PM IST

बिजनौर. उतर प्रदेश की राजनीती में पूर्ण बहुमत से बीजेपी की ताजपोशी के बाद प्रदेश के मुखिया योगीआदित्यनाथ को प्रदेश कमान दे गई थी। सोमवार को सीएम योगी ने सहारनपुर दौरे में  ये साफ कहा था कि उन्होंने प्रदेश से अवैध खनन को पूरी तरह खत्म करा दिया है। लेकिन बिजनौर का ये नजारा तो सीएम की बातों को ठेंगा दिखा रहा है। हालांकिन प्रदेश की कमान संभालते ही सीएम ने नदियों में हो रहे अवैध खनन पर रोक लगाते हुए खनन के नियमों में बदलाव के बाद कुछ जिलों में खनन को खोलने के आदेश दिए थे। इसी कड़ी में सीएम के आदेश आने के बाद नियमों को पूरा न कर पाने में जनपद बिजनौर में आज भी पूर्ण तरीके बंधित है। लेकिन इसके बावजूद आज भी सीएम के आदेश को अनदेखा कर जनपद में अवैध खनन का काला कारोबार जारी है।

यह भी पढ़ें- अब प्रदेश के युवा नहीं रहेंगे बेरोजगार, यहां हजारों लोगों को मिलेगा रोजगार


जनपद की नगीना तहसील क्षेत्र में पड़ने वाली खौ नदीया पहले से ही माफ़ियाओ द्वारा अवैध खनन में पुलिस प्रशासन व प्रशासनिक व सफेद पोश नेताओ के सरंक्षण में काफ़ी चर्चित रही है। लेकिन भाजपा की सरकार में भी खनन माफियाओं को किसी का डर नहीं है। बुढ़ावाला हरेवली मार्ग की खौ नदी पर अवैध रूप से खनन आज भी जारी है।

यह भी पढ़ें- तीन तलाक पीड़िता बोलीं- मोदी सरकार बनाए ऐसा कानून कि फिर ना हो ऐसा जुल्म

शासन व उच्चन्यायालय से अवैध खनन पर रोक होने के बावजूद भी खनन का कारोबार जारी है। ऐसा लगता है की खनन माफ़ियाओ के सामने उच्चन्यायालय व शासन भी कोई मायने नहीं रखता है। नगीना थाना क्षैत्र के गांव बुढ़ावाला रोड़ पर खौ नदी है। सूत्रों के हवाले से पता चला है की पुलिस की मिली भगत के चलते रात्री 8 बजे से सवेरे 4 बजे तक आधा दर्जन से ज्यादा रोजाना ट्रैक्टर ट्रालो में खनन माफ़िया अवैध रूप से भर कर ओवर लोड रेत ले जा रहे है। उसके बाद से सवेरे से ही सैकड़ो भैंसा बैल बुग्गी वाले भी खौ नदी से अवैध रूप से रेता भर कर 600 से 700/रू० कुंटल में बेच रहे हैं।

कुछ खनन माफ़ियाओं ने गावों में बुग्गी वालों और ट्रेक्टर ट्रालों से रेता मंगवाकर ई- रिक्शा चालकों को बेच रहे है। ई-रिक्शा चालक उस रेते को गांव से 6/7 इंच के सीमेंट के बने कट्टो में गांव से रेता भर कर लाकर शहर में 500/रू० का बेच रहे हैं। खौ नदी में खनन माफ़ियाओं द्वारा किये गए गहरे- गहरे गढ़ढे यह बताते है कि यहां पर अवैध खनन का काला कारोबार बदस्तूर जारी है। उधर जिले के अधिकारियों जांच की बात करते हुए गहरी नींद में चले जात हैं। इससे पता चलता है कि जिले के खनन अधिकारियों की मिली-भगत से ही अवैध खनन का खूब फल फूल रहा है।

 

pallavi kumari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned