VIDEO: आरटीओ में हुआ ऐसा फर्जीवाड़ा, लखनऊ तक मचा हड़कंप, ऑफिस में दो कर्मचारी फरार

  • लखनऊ तक पहुंची एआरटीओ कार्यालय घोटाले की जांच
  • 18 गाड़ियों के फर्जी पंजीकरण की बात सामने आई
  • बिजनौर आरटीओ के बाबू बताए जा रहे फरार

By: Ashutosh Pathak

Updated: 07 Jul 2019, 03:52 PM IST

बिजनौर। हाल ही में बिजनौर आरटीओ में फर्जी गाड़ी के नंबर के रजिस्ट्रेशन को लेकर मुरादाबाद की एक टीम जांच के लिए पहुंची थी। लेकिन अब इस घोटाले की गूंज लखनऊ तक पहुंच गई है। जिसके बाद उत्तर प्रदेश परिवहन आयुक्त लखनऊ अनिल कुमार मिश्रा के नेतृत्व में जांच टीम शनिवार को बिजनौर पहुंची और फर्जीवाड़े की जांच की।

दरअसल बुधवार को पहुंची टीम की जांच में 18 गाड़ियों के फर्जी पंजीकरण ( fake registration ) की बात सामने आई है। जिसके बाद विशेष जांच की जा रही है। मालूम हो कि एआरटीओ ( ARTO office ) कार्यालय बिजनौर में बिना एनओसी के दूसरे राज्य और जनपदों में वाहनों के पंजीकरण करने की बात उस समय सामने आई थी। जब मेरठ पुलिस ने एआरटीओ कार्यालय के एक एजेंट रणजीत सैनी को हिरासत में लिया था।

ये भी पढ़ें : BREAKING: ट्रक ने बाइक सवार युवक को रौंदा, मौत के बाद भीड़ ने जाम लगाकर काटा बवाल, देखें वीडियो

पुलिस पूछताछ में रणजीत सैनी ने सब कुछ उगल दिया था। इस प्रकरण में गत 1 जुलाई को मेरठ के किठौर थाने में मुकदमा दर्ज किया गया था। जिसमें बिजनौर एआरटीओ आलोक कुमार और दो बाबू निहाल सिंह व किशोर कुमार को भी नामजद किया गया था। मुकदमा दर्ज होने से आरटीओ कार्यालय में हड़कंप मच गया। उसी दिन से आरटीओ आलोक कुमार और आरोपी दोनों बाबू कार्यालय से गायब है।

ये भी पढ़ें : Big News: VIDEO: हिंदुओं की दयनीय स्थिति, पलायन को हैं मजबूर, मेरठ में पहुंची साध्वी प्राची ने दिया बड़ा बयान

फर्जी वाहन पंजीकरण मामले में इससे पहले भी मुरादाबाद आरटीओ की टीम इस प्रकरण में जांच कर चुकी है। इस प्रकरण की गूंज राजधानी लखनऊ तक पहुंच गई है। जिसके बाद शनिवार लखनऊ से उत्तर प्रदेश परिवहन आयुक्त अनिल कुमार मिश्रा इस प्रकरण की जांच के लिए बिजनौर पहुंचे। उनके साथ डिप्टी ट्रांसपोर्ट कमिश्नर वीके सोनकिया, आरटीओ मुरादाबाद आरआर सोनी, आरटीओ मुरादाबाद कमल गुप्ता भी रहे। आयुक्त अनिल कुमार मिश्रा ने प्रकरण की जांच करते हुए फाइल तलब की। उन्होंने बताया कि प्रारंभिक जांच में 18 ट्रकों का बिना एनओसी के पंजिकरण करने की बात सामने आई है। उन्होंने इस घोटाले में कार्यालय के अधिकारियों व कर्मचारियों की संलिप्तता की बात स्वीकार की और कहा कि जांच निष्पक्ष ढंग से की जाएगी, जो भी दोषी होंगे उसे बख्शा नहीं जाएगा।

ये भी पढ़ें : बिजनौर: प्रेमी के साथ में नहीं जाने दिया तो महिला ने अपने ही घर में लगा दी आग- देखें वीडियो

Show More
Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned