संयम प्रधान और एक सम्पूर्ण जीवन शैली है अणुव्रत

73 वां अणुव्रत दिवस मनाया, संवाद कार्यक्रम का आयोजन

By: Vimal

Published: 02 Mar 2021, 05:49 PM IST

बीकानेर. अणुव्रत आंदोलन का 73 वां स्थापना दिवस सोमवार को रामपुरिया हवेली रोड स्थित दुगड़ भवन तुलसी साधना केन्द्र में मनाया गया। साध्वी संकल्पश्री के सानिध्य में आयोजित कार्यक्रम में ‘अशान्त विश्व को शांति का संदेश अणुव्रत जीवन शैली’ पर संवाद कार्यक्रम हुआ। कार्यक्रम की शुरूआत नवकार मंत्र से हुई। इस अवसर पर साध्वी संकल्प श्री ने कहा कि विकास एकांगी न हो। आध्यात्मिक विकास जरुरी है। आज बुद्धिबल बढ़ रहा है, व्यक्ति का मनोबल और आत्मबल बढऩा जरुरी है।

साध्वीश्री ने कहा कि संस्कारों पर ध्यान देना अधिक जरुरी है। उन्होंने कहा कि मानवीय मूल्यों पर आधारित अणुव्रत का दर्शन जीवन के हर पहलू को छूता है। अणुव्रत एक सम्पूर्ण जीवन शैली है। यह एक अहिंसक और संयम प्रधान जीवन शैली है। मुख्य अतिथि जेठानन्द व्यास ने कहा कि विकृतियों से समाज व राष्ट्र कमजोर होता है। अणुव्रत को जीवन में उतारें। संकल्प लेकर काम करें तो सफल होता है।

जैन लूणकरन छाजेड़ ने कहा कि जीवन में व्रत और संकल्प जरुरी है। स्वयं पर शासन करें तो अनुशासन अपने आप हो जाएगा। इस अवसर पर इन्द्र चंद सेठिया, झंवर लाल गोलछा, धर्मचन्द जैन, पारसमल छाजेड़, सुरजाराम राजपुरोहित ने विचार रखे। इससे पहले नवकार मंत्र से कार्यक्रम की शुरूआत हुई। अणुव्रत गीत का गायन किया गया।

Show More
Vimal Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned