ज्योतिष : गुरु पूर्णिमा पर चंद्र ग्रहण इन राशियों पर पड़ सकता है भारी

ज्योतिष : गुरु पूर्णिमा पर चंद्र ग्रहण इन राशियों पर पड़ सकता है भारी

Jitendra Goswami | Updated: 11 Jul 2019, 03:01:11 PM (IST) Bikaner, Bikaner, Rajasthan, India

Astrology news : बीकानेर. आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा मंगलवार 16 जुलाई 2019 को लगने वाला चन्द्रग्रहण भारत में दिखाई देगा। ये खण्डग्रास चन्द्रग्रहण रहेगा।

बीकानेर. आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा मंगलवार 16 जुलाई 2019 को लगने वाला चन्द्रग्रहण भारत में दिखाई देगा। ये खण्डग्रास चन्द्रग्रहण रहेगा। ज्योतिष सलाहकार श्याम सुंदर बोड़ा के अनुसार भारत में ये ग्रहण 16 व 17 जुलाई की रात लगभग 1 बजकर 31 मिनट पर शुरू हो जाएगा।

 

ग्रहण का मध्य समय रात 3 बजकर 1 मिनट रहेगा और सुबह लगभग 4 बजकर 30 मिनट पर ग्रहण खत्म हो जाएगा। सम्पूर्ण ग्रहण की अवधि 2 घण्टा 59 मिनट है। चन्द्र ग्रहण में ग्रहण प्रारंभ होने से 9 घंटे पहले सूतक होता है। जो कि 16 जुलाई को दिन में लगभग 4.30 बजे शुरू हो जाएगा और ग्रहण के साथ ही खत्म हो जाएगा। इस दिन गुरु पूर्णिमा उत्सवए गुरु पूजन और अन्य शुभ काम सूतक काल यानी शाम लगभग 4.30 बजे से पहले ही कर लेने चाहिए।

 

इन चार राशियों पर रहेगा अशुभ असर

बोड़ा के अनुसार वृषए कन्या, धनु और मकर राशि वाले लोगों पर इस ग्रहण का अशुभ असर रहेगा। इन चार राशि वाले लोगों को संभलकर रहना चाहिए लेकिन कर्क, तुला, कुंभ और मीन राशि वाले लोगों पर इस चंद्रग्रहण का अशुभ असर नहीं पड़ेगा। मेष, मिथुन, सिंह और वृश्चिक राशि वालों के लिए सामान्य फल रहेगा।


ग्रहण के समय नहीं करना चाहिए ये काम

1.ग्रहण की अवधि में तेल लगाना भोजन करना, जल पीना, सोना केश विन्यास करना रति क्रीडा करना मंजन करनाए वस्त्र निचोडऩा व ताला खोलना वर्जित किए गये हैं ।

2. ग्रहण के समय सोने से रोग बढ़ते हैं। मल त्यागने से पेट में कृमि रोग होने की संभावना बढ़ती हैए संभोग नहीं करना चाहिए। मालिश या उबटन भी नहीं करना चाहिए।

3. सूर्यग्रहण या चन्द्रग्रहण के समय भोजन करने वाला मनुष्य पेट के रोगों से परेशान रहता है। ऐसे मनुष्य को आंख और दांत के रोग भी होते हैं।

4. चंद्रग्रहण में तीन प्रहर पहले भोजन कर लेना चाहिए ; प्रहर यानी 3 घंटे तक बूढ़े, बालक और रोगी एक प्रहर पहले खा सकते हैं ।

5. ग्रहण के दिन पत्तेए तिनके लकड़ी और फूल नहीं तोडऩा चाहिए।

6. ग्रहण के अवसर पर दूसरे का अन्न खाने से पुण्य नष्ट हो जाता है ।

7. ग्रहण के समय कोई भी शुभ या नया कार्य शुरू नहीं करना चाहिए।

 

ग्रहण काल में क्या कर सकते हैं

1. ग्रहण लगने से पूर्व स्नान करके भगवान का पूजन यज्ञ जप करना चाहिए ।

2. वेदव्यास जी ने बताया है कि चन्द्रग्रहण में किया गया पुण्यकर्म ;जप, ध्यान, दान आदि एक लाख गुना और सूर्य ग्रहण में दस लाख गुना फलदायी होता है।

3. ग्रहण के समय गुरुमंत्र, इष्टमंत्र अथवा भगवान के नामों का जप जरूर करें।

4. ग्रहण समाप्त हो जाने पर स्नान करके श्रद्धा के अनुसार ब्राम्हण को दान देना चाहिए ।

5. ग्रहण के बाद पुराना पानी, अन्न नष्ट कर नया भोजन पकाया जाता है और ताजा जल भरना चाहिए।

6. ग्रहण पूरा होने पर सूर्य या चन्द्र जिसका ग्रहण हो उसका शुद्ध बिम्ब देखकर भोजन करना चाहिए।

7. ग्रहणकाल में स्पर्श किए हुए वस्त्र आदि की शुद्धि के लिए बाद में उसे धो देना चाहिए तथा खुद भी वस्त्रसहित स्नान करना चाहिए।

8. ग्रहण के समय गायों को घास, पक्षियों को अन्न जरूरत मंदों को वस्तु दान देने से अनेक गुना पुण्य प्राप्त होता है।

 

गर्भवती महिलाओं को ध्यान रखनी चाहिए ये बातें

गर्भवती स्त्री को सूर्य दृचन्द्रग्रहण नहीं देखना चाहिएए क्योकि उसके दुष्प्रभाव से शिशु अंगहीन होकर विकलांग बन जाता है । गर्भपात की संभावना बढ़ जाती है। इससे बचने के लिए गर्भवती के उदर भाग यानी पेट पर गोबर और तुलसी का लेप लगा दिया जाता हैए जिससे कि राहु केतु उसका स्पर्श न करें। ग्रहण के दौरान गर्भवती स्त्री को कुछ भी कैंची चाकू आदि से काटने को मना किया जाता है और किसी वस्त्र आदि को सिलने से मना किया जाता है क्योंकि ऐसी मान्यता है कि ऐसा करने से शिशु के अंग या तो कट जाते हैं।

 

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned