scriptAuthentication Student Janadhar Module | सात दिन में उगाओ 'हथेली पर सरसो' | Patrika News

सात दिन में उगाओ 'हथेली पर सरसो'

निदेशालय ने 'ऑथेन्टिकेशन स्टूडेंट जनाधार मॉड्यूलÓ के लिए शिक्षकों को दिया सात दिन का समय परीक्षा संबंधी कार्यो में व्यस्तता के चलते सिर्फ 30 फीसदी का ही हो पाया है प्रमाणीकरण, अब सता रहा कार्रवाई का डर

बीकानेर

Updated: May 18, 2022 06:40:51 pm

सरकारी स्कूलों में अध्ययनरत विद्यार्थियों को सरकारी योजनाओं का लाभ दिलाने के लिए 'ऑथेन्टिकेशन स्टूडेंट जनाधार मॉड्यूल' के जरिये उनका प्रमाणीकरण किया जाएगा। इसमें घर के मुखिया का जनाधार तथा बच्चे की सारी जानकारी अपडेट की जा रही है। इस संबंध में शिक्षा निदेशक गौरव अग्रवाल ने 9 मई को एक आदेश भी जारी किया था। इस आदेश में बच्चे की सारी जानकारी जुटा कर अपडेट करने के लिए 17 मई की तिथि निर्धारित की गई थी।
आंकड़े बताते हैं कि कक्षा एक से 12वीं तक पूरे राजस्थान में करीब 95 लाख बच्चे हैं, जिनका 'ऑथेन्टिकेशन' होना है। व्यावहारिक तथ्य यह है कि जो समयावधि (9 से 17 मई ) इस कार्य को संपादित करने के लिए दी गई थी, उस दौरान तमाम शिक्षण कार्यों मसलन परीक्षा, परिणाम की तैयारी आदि में शिक्षक मशगूल रहे। दूसरी ओर 11 मई से स्कूलों में अवकाश का ऐलान कर दिया गया, जिससे भी प्रमाणीकरण का कार्य बाधित हुआ। एक अनुमान के मुताबिक, निदेशालय की ओर से दी गई समयावधि के दौरान लगभग 30 फीसदी ही बच्चों का जनआधार प्रमाणीकरण का कार्य पूर्ण हो पाया है। ऐसे में एक तरफ तो शिक्षकों को कार्रवाई का डर सता रहा है, तो दूसरी ओर जनआधार प्रमाणीकरण नहीं हो पाने से तमाम लाभों से बच्चे वंचित हो जाएंगे, जो उन्हें सरकारी योजनाओं के रूप में मिलते हैं।

सात दिन में उगाओ 'हथेली पर सरसो'
सात दिन में उगाओ 'हथेली पर सरसो'

कैसे क्या होगा
निदेशक अग्रवाल ने आदेश में कहा था कि विद्यालय के संस्था प्रधान तथा कक्षाध्यापक के स्टाफ ङ्क्षवडो लॉगिन पर यह मॉड्यूल उपलब्ध कराया जाएगा। डेटा में असमानता होने पर जन आधार प्रमाणीकरण असफल होता है, तो कक्षाध्यापक विद्यालय अभिलेख एवं शाला दर्पण में दर्ज प्रविष्टियों से मिलान करेगा। सही होने पर जन आधार डेटा को शाला दर्पण पोर्टल के आधार पर अद्यतन करने के लिए अभिभावक से जन आधार की छाया प्रति एवं सहमति पत्र प्राप्त करेगा। जन आधार प्रमाणीकरण से संबंधित दस्तावेज विद्यालय अभिलेख के रूप में सुरक्षित भी रखना होगा।

ज्यादा दिक्कत प्राथमिक में
जानकारों की मानें, तो रोजगार सहित विभिन्न कारणों से दूसरे राज्यों से आकर बसने वाले लोगों के बच्चों का जनआधार प्रमाणीकरण का काम सबसे मुश्किल है। एक अनुमान के मुताबिक प्राथमिक स्तर यानी कक्षा एक से पांचवीं तक में पढऩे वाले लगभग 50 फीसदी बच्चों का जनआधार कार्ड ही नहीं बन पाया है। वजह तकनीकी पेचीदिगियां हैं। इनसे भी शिक्षकों को ही जूझना होगा।


शिक्षक संगठनों का विरोध
राजस्थान शिक्षक संघ (राष्ट्रीय) के प्रदेश महामंत्री अरविन्द व्यास तथा शिक्षक नेता रवि आचार्य ने शिक्षा मंत्री को पत्र भेज कर कहा है कि स्कूलों में ग्रीष्मावकाश होने के कारण कई विद्यार्थी अभिभावकों के साथ कहीं चले गए हैं। ऐसे में जनाधार को अपटेड करने में मुश्किल हो रही है। जानकारी के मुताबिक, पत्र में यह भी कहा गया है कि 17 मई तक परीक्षाएं व मूल्यांकन काम भी चलने से यह काम करना मुश्किल हो रहा है, लिहाजा उसमें कुछ शिथिलता प्रदान की जाए।

अब कहां ढूंढें अभिभावकों को

शिक्षा निदेशक गौरव अग्रवाल ने जनाधार को अपडेट करने के लिए 17 मई अंतिम तिथि निर्धारित की थी। लेकिन किसी भी स्कूल के संस्था प्रधान तथा अन्य शिक्षकों को इसके लिए समय नहीं मिल पाया। वजह स्कूलों में जिला समान परीक्षा शुरू हो गई थी, तो स्टाफ उस में लग गया। 16 मई तक परीक्षा परिणाम जारी करने को कहा गया। पांचवीं और आठवीं बोर्ड परीक्षा भी मैराथन की तरह चली, जो 17 मई को समाप्त हुई है। इसके अलावा प्रचंड गर्मी के चलते निदेशक ने 11 मई से सत्रांत तक स्कूलों में अवकाश घोषित कर दिया। ऐसे में अभिभावक तथा बच्चों को जनाधार अपडेट के बारे में जानकारी भी नहीं दी जा सकी। अब कई जिलों के शिक्षा अधिकारी 17 मई तक जनाधार को अपडेट करने के आदेश जारी कर रहे हैं। व्यावहारिक तथ्य यह है कि इतने कम समय में अभियान की शक्ल वाला यह कार्य हो पाना संभव नहीं लग रहा है। आदेश में यह भी कहा जा रहा है कि अगर समय पर यह काम पूरा नहीं किया गया तो कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। कार्रवाई की यही चेतावनी शिक्षकों में डर पैदा कर रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

जयपुर में एक स्वीमिंग पूल में रात का सीसीटीवी आया सामने, पुलिसवालें भी दंग रह गएकचौरी में छिपकली निकलने का मामला, कहानी में आया नया ट्विस्टइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलचेन्नई सेंट्रल से बनारस के बीच चली ट्रेन, इन स्टेशनों पर भी रुकेगीNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयधन कमाने की योजना बनाने में माहिर होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, दूसरों की चमका देती हैं किस्मतCBSE ने बदला सिलेबस: छात्र अब नहीं पढ़ेगे फैज की कविता, इस्लाम और मुगल साम्राज्य सहित कई चैप्टर हटाए

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: बीजेपी ऐसे भिखारियों का हाथ पकड़कर खुद को बता रही महाशक्ति.. ‘सामना’ के जरिए फिर शिवसेना ने कसा तंजAmit Shah on 2002 Gujarat Riots: गुजरात दंगों पर SC के फैसले के बाद बोले अमित शाह, PM मोदी को इस दर्द को झेलते हुए देखा हैकेरल में राहुल गांधी के दफ्तर पर हुए हमले के बाद बड़ी कार्रवाई, DSP निलंबित, ADGP करेंगे मामले की जांच25 जून 1983, 39 साल पहले भारत ने रचा था इतिहास, लॉर्ड्स में वर्ल्ड कप जीतकर लहराया तिरंगाकौन हैं तपन कुमार डेका, जिन्हें मिली इंटेलिजेंस ब्यूरो की कमानपाकिस्तान की खुली पोल, 26/11 मुंबई हमले का मास्टर माइंड साजिद मीर जिंदा, ISI ने मोस्ट वांटेड आतंकी को बताया था मराMumbai News Live Updates: शिवसेना के पुणे शहर प्रमुख संजय मोरे ने खुलेआम दी धमकी, कहा- बागी विधायकों के दफ्तरों पर करेंगे हमला, किसी को नहीं छोड़ेंगेMaharashtra Political Crisis: एक्शन में शिवसेना! अयोग्य करार देने के लिए डिप्टी स्पीकर को भेजा 4 और MLA के नाम, 16 बागियों पर भी कार्रवाई की तैयारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.