बीकानेर : बेटी को अमरीका भेजने के लिए ली घूस , एससीबी ने कार्यवाहक आवासन उपायुक्त को दबोचा

बीकानेर : बेटी को अमरीका भेजने के लिए ली घूस , एससीबी ने कार्यवाहक आवासन उपायुक्त को दबोचा

Jitendra Goswami | Updated: 11 Jul 2019, 11:50:55 AM (IST) Bikaner, Bikaner, Rajasthan, India

bikaner crime news : लेखाधिकारी को भी पकड़ा, बिल पास करने की एवज में लिए थे 70 हजार रुपएसत्यापन के दौरान भी आरोपी ने 50 हजार रुपए लिए थे ।

बीकानेर. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) बीकानेर की टीम ने आवासन मंडल बीकानेर के कार्यवाहक उपायुक्त राजसिंह एवं लेखाधिकारी नीलकंठ पुरोहित को ठेकेदार के बिल पास करने की एवज में 70 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। अपर पुलिस अधीक्षक रजनीश पूनिया के नेतृत्व में बुधवार सुबह 11:30 बजे राजसिंह के पवनपुरी स्थित मकान पर कार्रवाई की गई।
टीम ने राजसिंह के पास से रिश्वत में लिए गए 50 हजार और नीलकंठ के पास से 20 हजार रुपए बरामद कर लिए।

 

वहीं बीकानेर एसीबी की सूचना पर चूरू एसीबी टीम ने राजसिंह की पत्नी को ढाई लाख रुपए के साथ चूरू में पकड़ा है। इस राशि में सत्यापन में लिए गए 50 हजार रुपए भी शामिल हैं। चूरू एसीबी के अनुसार राजङ्क्षसह ने छोटी बेटी को पढ़ाई के लिए अमरीका भेजने को यह रिश्वत ली थी। पूनिया ने बताया कि मंडल के एक ठेकेदार ने एसीबी को शिकायत दर्ज कराई थी। ठेकेदार ने बताया कि उसकी कंस्ट्रशन कंपनी की ओर से कराए गए निर्माण कार्यों के

 

भुगतान के चेक देने की एवज में कार्यवाहक आवासन उपायुक्त राजसिंह एवं लेखाधिकारी नीलकंठ बिल की 50 फीसदी राशि रिश्वत में मांग रहे हैं। यह राशि अधिक होने से कुछ राशि चेक बनाने से पहले और शेष राशि बाद में देने पर सहमति हुई। सत्यापन के दौरान राजसिंह ने परिवादी से ५० हजार रुपए ले लिए थे। इसके बाद एसीबी अधिकारियों ने बुधवार को ट्रैप की कार्रवाई में राजसिंह को ५० हजार और नीलकंठ को 20 हजार रुपए की रिश्वत लेते पकड़ लिया। दोनों आरोपियों ने परिवादी से एक लाख 20 रुपए रिश्वत के लिए थे।

 

घर पर ही बुलाया
एएसपी पूनिया के मुताबिक बुधवार को राजसिंह ने रिश्वत राशि लेने के लिए ठेकेदार को पवनपुरी स्थित अपने आवास पर बुलाया, जहां लेखाधिकारी नीलकंठ भी आ गया। इसके बाद एसीबी टीम ने राजसिंह के आवास के पास जाल बिछा दिया। परिवादी ने जैसे ही रुपए दिए, एसीबी टीम ने दोनों को दबोच लिए।

 

दिखाई मंत्री के नाम की धौंस
रिश्वत लेते पकड़े जाने के बाद लेखाधिकारी नीलकंठ ने कार्रवाई से बचने के लिए एक मंत्री के नाम पर धौंस भी दी, लेकिन एसीबी अधिकारियों ने उसकी एक नहीं सुनी। नीलकंठ ने खुद को एक मंत्री का करीबी बताकर आवासन मंडल में पैठा बना रखी थी।

 

दोनों के पास नागौर का भी चार्ज
राजसिंह के पास आवासीय अभियंता एवं परियोजना अभियंता का कार्यभार भी था। वह नागौर का कार्यभार भी देख रहा है। वहीं लेखाधिकारी नीलकंठ के पास भी बीकानेर के साथ नागौर का चार्ज है।

 

पत्नी को रेलवे स्टेशन पर पकड़ा
चूरू. आवासन उपायुक्त राजसिंह चौधरी ने अपनी छोटी बेटी को अमरीका भेजने के लिए रिश्वत ली थी। यह खुलासा एसीबी की पूछताछ में हुआ है। चूरू एसीबी टीम ने बीकानेर एसीबी की सूचना पर राजसिंह की पत्नी को दो लाख 49 हजार रुपए के साथ चूरू रेलवे स्टेशन पर दबोच लिया। आरोपी की पत्नी सुनीता अपनी मां अंगूरी देवी के साथ दिल्ली सराय-रोहिल्ला ट्रेन से दिल्ली जा रही थी। चूरू एसीबी के एएसपी आनंदप्रकाश स्वामी के अनुसार राजसिंह की पत्नी ने बताया कि उसकी छोटी बेटी अमरीका जा रही है, उसे यह रुपए देने दिल्ली जा रही थी।

 

करोड़ों का मालिक है राजसिंह
एसीबी की तलाशी में राजसिंह के घर से सात लाख 76 हजार रुपए नकद, 20 लाख की एफडी, करीब 32 लाख रुपए अलग-अलग बैंकों में जमा होने के प्रमाण मिले हैं। करीब पौने तीन सौ ग्राम सोने के आभूषण, डेढ़ किलो चांदी के आभूषण व सिक्के, बीकानेर व नागौर में दो-दो, जयपुर में एक मकान, सूरतगढ़ में एक प्लॉट, समीक्षा सिटी बीकानेर में दो दुकानें, पैतृक गांव उत्तरप्रदेश के मुज्जफर जिले के खातोली गांव में 66 बीघा जमीन है। यह प्रॉपर्टी आरोपी व उसके परिजनों के नाम है। वाहनों में स्कूटी, मोटरसाइकिल है। वहीं नीलकंठ के घर से 10 लाख की एफडी, तीन मकानों की जानकारी मिली है, जिसमें दो मकान बीकानेर और एक मकान जयपुर में है।

 

नीलकंठ के आवास पर तलाशी
आरोपी राजसिंह के आवास पर तलाशी में एसीबी ने उसकी चल-अचल संपत्ति के दस्तावेज कब्जे में लिए है। आरोपी के घर से करीब सात लाख रुपए नकद और जमीनों के कागजात मिले हैं। वहीं नीलकंठ के मुक्ताप्रसाद कॉलोनी स्थित आवास पर तलाशी ली गई।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned