रंग पक्का, गोटा पत्ती पहचान, कॉटन साड़ी की बाहर भी है मांग

रंग पक्का, गोटा पत्ती पहचान, कॉटन साड़ी की बाहर भी है मांग

By: Atul Acharya

Published: 13 Sep 2021, 06:01 PM IST

अतुल आचार्य

बीकानेर. त्योहारी सीजन शुरू हो चुका है। ऐसे में परिधान की दुकानों पर खरीदारी करने के लिए महिलाओं की भीड़ देखने को मिल जाती है। बदलते फैशन के इस दौर में खरीदार भी नई डिजाइन लेना पसंद करते हैं। बदलते ट्रेंड में साडिय़ों की खरीद का ट्रेंड भी बदला है। शहर की दुकानों में बीकानेर में तैयार होने वाली साडिय़ों की मांग भी बढ़ी है।मोहता चौक क्षेत्र के दुकानदार ने बताया कि कॉटन साड़ी, राजपूती ड्रेस की डिमांड काफ ी ज्यादा है। इसके अलावा कोटा डोरिया, मूंगा कोटा की भी मांग है। यह साडिय़ां आती तो बाहर से हैं लेकिन, इनको तैयार बीकानेर में ही किया जाता है। यहां तैयार होने वाली इन साडि़यों की मांग शहर के बाहर भी बनी रहती है।


किया बदलाव
समय के साथ-साथ डिजाइन में भी बदलाव आया है। साडिय़ों पर होने वाले वर्क का काम तो बीकानेर में ही होने लगा है। इसके अलावा गोटा पत्ती वर्क और कंप्यूटर के माध्यम से प्रिंटिग का काम भी यहां हो रहा है। हाथ के बंधेज की भी दुकानों में काफ ी मांग है।


बीकानेर में होती है छपाई
साड़ी विक्रेताओं ने बताया की साडिय़ों के लिए कपड़ा बाहर से आता है। लेकिन इनके ऊपर होने वाली छपाई का सारा काम बीकानेर में ही होता है। यहां होने वाली छपाई का रंग गारंटेड फ ़ास्ट होता है। इस वजह से इन साडिय़ों की मांग बीकानेर ही नहीं बल्कि बाहर भी अत्यधिक रहती है। कोलकाता से भी यहां साडि़यां आती है लेकिन उनका रंग कच्चा होता है इसलिये इनकी मांग कम होती है।


इनका कहना है
अभी फिलहाल ग्राहकी धीरे चल रही है। उम्मीद है कि आने वाले समय में ग्राहकी बढ़ेगी। इसके अलावा यहां पर रंगाई-छपाई उद्योग के लिए अलग जमीन की मांग की गयी। अगर मिल जाए तो काफ ी फ ायदा होगा।
घनश्याम लखाणी, व्यवसायी

साडिय़ों के दाम
कॉटन साड़ी-250 से 450 रुपए
कोटा डोरिया- 400 से 700 रुपए
मूंगा कोटा- 450 से 600 रुपए
राजपूती ड्रेस- 400 से 600 रुपए
गोटा पत्ती वर्क- ४०० से २५०० रुपए

Atul Acharya Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned