बदमाशों के लिए 'सुरक्षित पनाहगार' बीकानेर

बदमाशों के लिए 'सुरक्षित पनाहगार' बीकानेर
बदमाशों के लिए 'सुरक्षित पनाहगार' बीकानेर

Jai Prakash Gehlot | Updated: 20 Sep 2019, 07:57:22 PM (IST) Bikaner, Bikaner, Rajasthan, India

अपराधियों के जाने के बाद पता चलता है स्थानीय पुलिस को

जयप्रकाश गहलोत

बीकानेर. पश्चिमी राजस्थान का सीमावर्ती बीकानेर जिला अब अपराधियों के ठहरने के लिए सुरक्षित पनाहगार बन गया है। प्रदेश व दूसरे राज्यों के हार्डकोर बदमाश सहित पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आइएसआइ की भी इस जिले पर नजर रहती है। राजस्थान व हरियाणा-पंजाब के हार्डकोर अपराधियों ने बीकानेर को 'सुरक्षित इलाकाÓ मानते हुए फरारी काटने के लिए चुन रखा है। जिसके मामले थोड़े-थोड़े अंतराल पर लगातार सामने आ रहे है।बीकानेर जिले में सामरिक महत्व की महाजन फील्ड फायरिंग रेंज, इंदिरा गांधी नहर, देशनोक करणी माता मंदिर, नाल हवाई अड्डा, आर्मी एरिया है। जो दुश्मन देश की खुफिया एजेंसियों के निशाने पर रहते है। अब हार्डकोर अपराधियों ने भी बीकानेर को अपने छिपने और फरारी काटने का ठिकाना बना लिया है।

अपराधी यहां आकर रुकते हैं और मौका पाकर वापस भी चले जाते हैं। पुलिस का सूचना तंत्र इतना कमजोर है कि हार्डकोर अपराधियों के आने के बारे में पता ही नहीं चलाता, उनके जाने के बाद खबर लगती है। प्रदेश का कुख्यात अपराधी आनंदपाल सिंह, 007 गैंग का अशोक बिश्नोई, अंकित गोदारा, पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाशसिंह बादल को मारने की साजिश रचने वाला जरमनसिंह सहित कई हार्डकोर बीकानेर में रहे है।

आतंकवादी जरमनसिंह ने कोलायत क्षेत्र के एक धार्मिक स्थल में कई दिनों से शरण ली थी। तब पंजाब पुलिस ने जिला पुलिस के सहयोग से दबोचा। बीकानेर में आने वाले अपराधी ज्यादातर धार्मिक स्थलों को अपने रुकने का ठिकाना बनाते हैं। ऐसे स्थानों पर पुलिस की नजर कम पड़ती है और किसी को शक भी नहीं होता। हरियाणा-पंजाब के अपराधियों का बीकानेर के स्थानीय बदमाशों से सांठगांठ कर वारदातों को अंजाम देने के मामले भी सामने आए हैं।

जिले में आइबी चौकियां
खाजूवाला, पूगल, दंतौर व लूणकरनसर। बज्जू में करीब 10-12 साल पहले चौकी थी लेकिन बाद में इस चौकी को लूणकरनसर शिफ्ट कर दिया गया।

ऐसा नहीं है कि पुलिस लापरवाह है
बीकानेर पुलिस ने भी दूसरे राज्यों के हार्डकोर बदमाशों को दबोचा है। कई बार पुख्ता सूचना नहीं होने बदमाश बीकानेर आकर चले जाते है, ऐसा नहीं है कि पुलिस लापरवाह है। हाल ही में हथियार तस्कर आमीन खान को बीकानेर पुलिस ने पकड़ा । दूसरे राज्यों के अपराधी बीकानेर जिले में प्रवेश नहीं करें, इसके प्रयास किए जाएंगे।
-पवन कुमार मीणा, अति. पुलिस अधीक्षक, शहर

जिले में थाने 27
पुलिस चौकियां 41
कुल नफरी करीब 2200

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned