रैन बसेरों में मिलेगा आश्रय, भोजन और रोजगार होगा सुनिश्चित

कोरोना दूसरी लहर - निराश्रित बालक-बालिकाओंऔर विधवा महिलाएं होंगी सूचीबद्ध

By: Vimal

Published: 03 Jul 2021, 06:21 PM IST

बीकानेर. कोरोना महामारी की दूसरी लहर में जिन बालक-बालिकाओं ने अपने माता-पिता दोनों को खोया है अथवा जिस महिला के पति की मृत्यु कोरोना के कारण हुई है, और इनके समक्ष अगर रहने और भोजन की समस्या है तो ऐसे बालक-बालिकाएं और विधवा महिलाएं सूचीबद्ध होंगे। नगर निगम की ओर से ऐसे बालक-बालिकाओं और विधवा महिलाओं के लिए अपने रैन बसेरों में न केवल रहने की व्यवस्था की जाएगी बल्कि इंदिरा रसोई के माध्यम से भोजन की भी व्यवस्था की जाएगी।

 

निगम प्रशासन ने ऐसे बालक-बालिकाओं और विधवा महिलाओं को सूचीबद्ध करने के लिए निगम क्षेत्र में वार्ड अनुसार अधिकारियों को नियुक्त किया है जो संबंधित वार्ड जमादार और सर्कल इंस्पेक्टर की मदद से ऐसे बालक-बालिकाओं और विधवा महिलाओं को सूचीबद्ध करेंगे। निगम पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन तथा मुख्यमंत्री कोरोना सहायता व बाल कल्याण योजना के तहत ऐसे बालक-बालिकाओं और विधवा महिलाओं तक सहायता पहुंचाएगा। सर्वे की जानकारी निर्धारित प्रपत्र में एकत्रित की जाएगी।

 

चार अधिकारियों को सौंपे 80 वार्ड

निगम प्रशासन ने मुख्यमंत्री कोरोना सहायता योजना के तहत ऐसे बालक-बालिकाओं अथवा विधवा महिलाओं व उनके बच्चों को राहत पहुंचाने के लिए चार अधिकारियों को 80 वार्डो की जिम्मेदारी सौंपी है। आयुक्त एएच गौरी ने आदेश जारी कर उपायुक्त पंकज शर्मा को इस कार्य के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किया है। जबकि राजस्व अधिकारी जगदीश खीचड़, राजस्व अधिकारी अलकाबुरडक, राजस्व अधिकारी अल्ताफ बानो और राजस्व अधिकारी कंचन राठौड़ को निगम क्षेत्र के 80 वार्डो की जिम्मेदारी सौंपी है। राजस्व अधिकारी स्वच्छता निरीक्षकों और जमादारों की मदद से आंवटित वार्डो के प्रस्ताव तैयार कर निगम को सौंपने को निर्देश दिए गए है।

 

जुड़ेंग रोजगार अथवा स्वरोजगार से

सर्वे में चिह्नित विधवा महिलाओं को डेएनयूएलएम योजना के एसएमआईडी घटक के तहत स्वयं सहायता समूहों कागठन कर उनका प्रशिक्षण क्षमतावद्र्धन करवाते हुए योजना रोजगार एवं स्वरोजगार के लिए बैंक ऋण दिलाया जाएगा। निगम आयुक्त के अनुसार यदि ऐसी महिलाएं पथ विक्रेता के रूप मे व्यवसाय करती है तो उन्हे वेंडिंग कार्ड जारी कर प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि के अन्तर्गत अनुदानित ऋण एवं वेंडिंग मार्केट में व्यवसाय के लिए प्राथमिकता से स्थान उपलब्ध करवाया जाएगा। अनाथ बालक-बालिकाओं, विधवा महिलाओं को उनकी योग्यता के अनुसार कौशल प्रशिक्षण प्रदान कर रोजगार-स्वरोजगार से जोड़ा जाएगा।

Show More
Vimal Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned