निगम में गर्माई राजनीति, लाबबंद हुए पार्षद

bikaner nagar nigam- निगम सभागार में अधिकारियों के विरुद्ध नारेबाजी
गोशाला में अव्यवस्था और पार्षदों पर दर्ज मामलों पर रोष

By: Vimal

Published: 23 May 2020, 06:11 PM IST

बीकानेर. नगर निगम गोशाला और पार्षदों के विरुद्ध दर्ज हुए मामले को लेकर अब निगम में राजनीति गर्मा गई है। गुरुवार को कांग्रेस, भाजपा सहित कई निर्दलीय पार्षद निगम सभागार में एकत्र हुए । उन्होंने गोशाला समिति की ओर से गोशाला का संचालन बिना बताए छोडऩे, निगम उपायुक्त की ओर से पार्षदों के विरुद्ध दर्ज करवाई मनगढ़त एफआईआर पर रोष जताया।

 


महापौर सुशीला कंवर और उप महापौर राजेन्द्र पंवार की मौजूदगी में पक्ष-विपक्ष के पार्षदों ने निगम अधिकारियों के विरुद्ध जमकर नारेबाजी की। कई पार्षदों ने निगम की ओर से गोशाला समिति को किए गए करोड़ो रुपए के भुगतान का हिसाब-किताब गोशाला समिति से लेने का मुद्दा भी उठाया। इस दौरान कई पार्षदों ने इस बात पर नाराजगी जताई कि कई निगम अधिकारियों का व्यवहार उनकी पद की गरिमा के अनुकूल नहीं है। जनप्रतिनिधियों के साथ भी उनका बर्ताव ठीक नहीं है। जनता परेशान है, अधिकारी कोई सुनवाई नहीं कर रहे है। इस दौरान पार्षद शांति लाल मोदी, चेतना चौधरी, मनोज बिश्नोई, अनूप गहलोत, अब्दुल वाहिद,पारस मारु, विनोद धवल, प्रतीक स्वामी, दुलीचंद शर्मा, मुकेश पंवार, पुनीत शर्मा,आनन्द सिंह सोढ़ा, महेन्द्र बडगुजर सहित कई भाजपा, कांग्रेस और निर्दलीय पार्षद मौजूद रहे।

 


निगम उपायुक्त पर बदतमीजी का आरोप
महापौर सुशीला कंवर ने पत्रकारों को बताया कि बुधवार को निगम उपायुक्त जगमोहन हर्ष ने मेरे साथ व महिला पार्षद के साथ बदतमीजी की। निगम अधिकारी ना जनता की सुन रहे है और ना ही जनप्रतिनिधियों की।गोशाला समिति बिना जानकारी दिए गोशाला को छोडक़र चली गई है। गोशाला के श्रमिकों के समक्ष भूखे रहने की नौबत बनी हुई है। हम न श्रमिकों को भूखा छोड़ सकते है और ना ही गोशाला में रह रहे गोवंश को बिना चारा, चाटा और पानी के। महीनों से लोगों के काम नहीं हो रहे है। जनता की परेशानियों को दूर करवाना हमारी पहली प्राथमिकता है।

Vimal Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned