scriptbikaner news | समाज के चेहरे पर मुस्कान लाने के लिए राजनीति में आने की क्या जरूरत | Patrika News

समाज के चेहरे पर मुस्कान लाने के लिए राजनीति में आने की क्या जरूरत

समाज के चेहरे पर 'मुस्कान' लाने के लिए राजनीति में आने की क्या जरूरत

 

बीकानेर

Updated: May 01, 2022 09:47:59 pm

बृजमोहन आचार्य
बीकानेर. बड़ा बाजार स्थित सिंगिया चौक की वह दहलीज यूं तो काठ की ही बनी है। लेकिन इस दहलीज ने अपने अंदर दशकों की कहानियां और बदलाव को संजो कर रखा है। इसे बीकानेर किन्नर समाज की हवेली कहा जाता है।देश के अन्य हिस्सों में रहने वालों को यह विचित्र लग सकता है, लेकिन सुखद तथ्य यही है कि इस हवेली को लेकर दशकों से बीकाणावासियों का एक लगाव भी है और बेहद आदर भाव भी है। यह आदर यहां के किन्नर समाज की अमूल्य धरोहर तो है ही, बीकानेर वासियों के जज्बे का भी प्रतीक है, जो उन्हें आशीष से नवाजने वाले को इतना आदर बख्शते हैं। किन्नर समाज की मौजूदा गुरु मुस्कान बाई इन दिनों अपने सेवा कार्यों को लेकर सुर्खियों में हैं। मुस्कान बाई से पत्रिका ने बात की, तो अपने बाल्यकाल से लेकर अब तक की यादों को उन्होंने कुछ यूं साझा किया। पेश है, उनसे बातचीत के अंश...
समाज के चेहरे पर 'मुस्कान' लाने के लिए राजनीति में आने की क्या जरूरत
समाज के चेहरे पर 'मुस्कान' लाने के लिए राजनीति में आने की क्या जरूरत
सवाल- आप कब से बीकानेर में हैं।

जवाब- पांच साल की थी, तो बीकानेर आ गई। अब करीब तीस साल की हो गई हूं। गुरुजी रजनी बाई अग्रवाल का आशीर्वाद हमेशा रहा। गुरुजी की बदौलत ही आज बीकानेर किन्नर समाज की अध्यक्ष हूं।
सवाल-घर-परिवार से कोई संपर्क रहता है।

जवाब- बीकानेर आई थी, तो छोटी थी। मां-बाप से बातचीत हो जाती थी। धीरे-धीरे इसी समाज में रम गई। अब तो बहुत ही कम बात होती है। हिसार में जन्म हुआ। परिवार में एक भाई और एक बहन हैं। दोनों शादीशुदा और अपनी जिंदगी में खुश हैं।

सवाल- समाज आज किन्नर समाज को किस नजरिये से देखता है?

जवाब- किन्नर समाज की इज्जत बढ़ी है। लोग स्वयं घर पर बुलाकर बधाई देते हैं। बधाई के लिए किसी पर दबाव नहीं डाला जाता। थोड़ी बहुत जिद भी मान लीजिए परंपरा का ही हिस्सा है।
सवाल-समाज सेवा की सोच कब पैदा हुई और अब तक क्या किया?

जवाब- गुरू जी को देखते हुए ही यह सोच पैदा हुई। उन्हीं के सपने को साकार करते हुए किन्नर समाज ने हाल ही दो बच्चियों की शादी कराई है। पांच बच्चों की स्कूली पढ़ाई का खर्चा उठा रहे हैं। एक बच्ची को गोद लिया है। उसका सारा खर्चा किन्नर समाज उठा रहा है।
सवाल-किसी के घर लड़का होने पर ही बधाई लेते हैं या...?

जवाब-नहीं-नहीं। ऐसी बात नहीं है। जिस घर में पहली लड़की होती है, तो वहां पर भी खुशी-खुशी बधाई देते हैं। घर में लक्ष्मी आने पर सभी को खुशी होती है।
सवाल- किसी किन्नर के निधन पर उसके अंतिम संस्कार को लेकर बहुत सी भ्रांतियां हैं। आपका क्या कहना है?

जवाब-किन्नर का निधन होने पर आम आदमी की तरह ही अंतिम संस्कार किया जाता है। अगर कोई हिंदू किन्नर हो, तो उसका अंतिम संस्कार हिंदू रीति-रिवाज से और अगर कोई मुुस्लिम किन्नर है, तो उसका अंतिम संस्कार मुुस्लिम समाज की रीति-रिवाज से करते हैं।
सवाल-राजनीति में आने का विचार है।

जवाब-राजनीति में आने का कोई विचार नहीं है। समाज सेवा के लिए जब भी आवश्यकता पड़ेगी। किन्नर समाज आगे रहेगा। समाज के चेहरे पर मुस्कान लाने के लिए राजनीति में आने की क्या जरूरत है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठाLiquor Latest News : पियक्कडों की मौज ! रात एक बजे तक खरीदी जा सकेगी शराबशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफMorning Tips: सुबह आंख खुलते ही करें ये 5 काम, पूरा दिन गुजरेगा शानदारDelhi Schools: दिल्ली में बदलेगी स्कूल टाइमिंग! जारी हुई नई गाइडलाइनMahindra Scorpio 2022 का लॉन्च से पहले लीक हुआ पूरा डिजाइन और लुक, बाहर से ऐसी दिखती है ये पावरफुल कारबैड कोलेस्‍ट्राॅल और डिमेंशिया को कम करके याददाश्त को बढ़ाता है ये लाल खट्‌टा-मीठा फल, जानिए इसके और भी फायदेAC में लगाइये ये डिवाइस, न के बराबर आएगा बिजली बिल, पूरे महीने होगी भारी बचत

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी मामले के बीच गोवा के सीएम का बड़ा बयान, प्रमोद सावंत बोले- 'जहां भी मंदिर तोड़े गए फिर से बनाए जाएं'BJP को सरकार बनाने के लिए क्यों जरूरी है काशी और मथुरा? अयोध्या से बड़ा संदेश देने की तैयारीआक्रांताओं द्वारा तोड़े गए मंदिरों के बारे में बात करना बेकार है: सद्गुरुबेल्जियम, पहला देश जिसने मंकीपॉक्स वायरस के लिए अनिवार्य किया क्वारंटाइनएशिया कप हॉकी: पहले ही मैच में भिड़ेंगे भारत और पाकिस्तान, ऐसा है दोनों टीमों का रिकॉर्डआख़िर क्यों असदुद्दीन ओवैसी बार-बार प्लेसेज ऑफ़ वर्शिप एक्ट की बात कर रहे हैं, जानें क्या है यह एक्टकपिल देव के AAP में शामिल होने की चर्चा निकली गलत, सोशल मीडिया पर पूर्व कप्तान ने खुद साफ की स्थितिअफगानिस्तान के काबुल में भीषण धमाका, तालिबान के पूर्व नेता की बरसी पर शोक मना रहे लोगों को बनाया गया निशाना
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.