वार्डों में बेड फुल, हल्के लक्षण वाले मरीजों को भेज रहे घर

पीबीएम के ११ वार्डों में सात सौ बेड पर मरीज भर्ती, गंभीर रोगियों के लिए एमसीएच में बीस वार्ड आरक्षित

By: Atul Acharya

Published: 06 May 2021, 08:27 PM IST

बृजमोहन आचार्य
बीकानेर. कोविड मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए पीबीएम अस्पताल प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए हैं। स्थिति यह हो गई है कि जिन मरीजों के स्वास्थ्य में थोड़ा-बहुत ही सुधार हो रहा है, उन्हें चिकित्सक हाथ जोड कर घर भेज रहे हैं ताकि वार्डों में वैकल्पिक व्यवस्था के तौर पर कुछ बेड खाली हो सके और गंभीर मरीज आने पर उन्हें भर्ती किया जा सके। जानकारी के अनुसार कोविड मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए औषध विभाग के पास अभी १२ वार्ड आरक्षित किए गए हैं। इनमें से अभी एक वार्ड प्रसूति विभाग के पास है। ऐसे में कोविड मरीजों के लिए ११ वार्ड आरक्षित किए गए हैं। इनमें से छह वार्ड सर्जरी चिकित्सा विभाग के थे जिन्हें भी औषध विभाग के लिए खाली कर दिए गए हैं। ऐसे में अभी ११ वार्डों में तथा एमसीएच विग के सभी बेड फुल हो गए हैं। हालांकि अस्पताल प्रशासन ने अत्यंत गंभीर मरीजों के आने की संभावना पर करीब पच्चीस बेड को आरक्षित रखा गया है ताकि कोई घटना न घटित हो जाए। अस्पताल के सूत्रों ने बताया कि अस्पताल के मुख्य भवन में सभी वार्ड फुल होने के बाद अब नेत्र चिकित्सालय के वार्डों को भी आरक्षित किया जाएगा। इसके लिए गुरुवार को कार्रवाई की जाएगी।

ऑक्सीजन वाले सभी पॉइंट बुक
जिन वार्डों में बेड पर ऑक्सीजन पॉइंट लगे हुए हैं। वे सभी बुक हो गए है। अब गंभीर मरीजों के लिए दो-तीन पॉइंट आरक्षित रखे गए हैं जो गंभीर मरीजों के लिए काम आ सके। अस्पताल में राहत की बात यह है कि ऑक्सीजन की किल्लत उत्पन्न नहीं हुई है।

दस मरीजों को सेटलाइट भेजा
पीबीएम अस्पताल में सभी बेड भर जाने के बाद अब मरीजों को सेटेलाइट अस्पताल रेफर किया जा रहा है। बुधवार रात दस मरीजों को सेटेलाइट अस्पताल भेजा गया है। अगर आवश्यकता हुई तो और मरीजों को भी भेजा जाएगा।

व्यवस्था सुधार रहे हैं
'हालांकि अस्पताल के सभी बेड फुल हो गए हैं। फिर भी व्यवस्था में सुधार किया जा रहा है। गंभीर मरीजों को सामान्य वार्डों से एमसीएच विंग भेज रहे हैं। साथ ही दस मरीजों को सेटेलाइट अस्पताल भेजा गया है। गुरुवार को व्यवस्था को और मजबूत किया जाएगा।Ó डॉ. परमिन्द्र सिरोही, अधीक्षक पीबीएम अस्पताल

Atul Acharya Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned