हाथों में खाली सिलेण्डर, प्राणवायु के लिए घंटो इंतजार

निजी अस्पतालों और घरों में उपचाराधीन मरीजों के परिजन ऑक्सीजन के लिए निकाल रहे चक्कर

 

By: Atul Acharya

Published: 06 May 2021, 08:55 PM IST

बीकानेर. पीबीएम अस्पताल में भर्ती मरीजों के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन की व्यवस्था की बातें भले ही कही जा रही हो, लेकिन शहर में निजी अस्पतालों में भर्ती अथवा घरों पर उपचार प्राप्त कर रहे मरीजों के परिजन प्राणवायु ऑक्सीजन के लिए परेशान हो रहे है। एक-एक ऑक्सीजन सिलेण्डर को प्राप्त करने के लिए परिजनों के न केवल पसीना निकल रहा है बल्कि ऑक्सीजन सिलेण्डर की चिंता में एक-एक पल उनके लिए भारी साबित हो रहा है। ऑक्सीजन सिलेण्डर के लिए मरीजों के परिजन इधर से उधर भटक रहे है। सुबह से शाम उनकी ऑक्सीजन सिलेण्डर प्राप्त करने में लग रही है। ऑक्सीजन सिलेण्डर प्राप्ति के लिए निर्धारित की गई व्यवस्था की पेचीदगी मरीजों के परिजनों के लिए मुश्किल बनी हुई है। ऑक्सीजन सिलेण्डर की प्राप्ति के लिए मरीजों के परिजन जहां संभावना नजर आ रही है, वहां पहुंच रहे है और सिलेण्डर के लिए प्रयास कर रहे है।

परिजन सिलेण्डर की व्यवस्था में

निजी अस्पतालों में ही नहीं घरों पर भी उपचार प्राप्त कर रहे मरीज और उनके परिजन ऑक्सीजन गैस सिलेण्डर के लिए परेशान है। सीताराम गेट के सामने स्थित गली निवासी अमित कोठारी अपनी नानी के लिए गैस सिलेण्डर की व्यवस्था में जुटे रहे। रामलाल सूरजदेवी रांका चैरिटेबल ट्रस्ट से उनको खाली सिलेण्डर तो मिल गया, लेकिन इसमें गैस भरवाने की जुगत में अमित जुटा रहा। अमित कोठारी अपनी नानी के लिए ऑक्सीजन गैस सिलेण्डर की व्यवस्था में जुटे रहे। अमित ने रांका ट्रस्ट से स पर्क किया, लेकिन उनको यहां से खाली सिलेण्डर उपलब्ध हो सका।

इसी प्रकार कैलाश गहलोत अपने फूफा के लिए ऑक्सीजन गैस सिलेण्डर की व्यवस्था में जुटा रहा। कैलाश के अनुसार ऑक्सीजन गैस सिलेण्डर प्राप्त करना आमजन के लिए आसान नहीं है। वे बताते है गैस सिलेण्डर प्राप्ति की प्रक्रिया इतनी जटिल और समय लगने वाली है कि मरीज के लिए हर पल भारी पड़ता है। पिछले कई दिनों से इसी व्यवस्था से जूझ रहे कैलाश गहलोत ने सरकार और प्रशासन से इस व्यवस्था को असान बनाने तथा निजी अस्पतालों और घरों पर उपचार प्राप्त कर रहे मरीजों को तुरन्त ऑक्सीजन मिले, इसकी व्यवस्था सुनिश्चित करने की मांग की।

रोज आ रहे दर्जनों लोग

रामलाल सूरजदेवी रांका चैरिटेबल ट्रस्ट के अध्यक्ष महावीर रांका के अनुसार रोज दर्जनों लोग ऑक्सीजन गैस सिलेण्डर के लिए आ रहे है। उनके पास पांच सौ गैस सिलेण्डर है, लेकिन गैस भरवाने की व्यवस्था नहीं होने से खाली है। इनमें से अधिकतर सिलेण्डर मरीजों के उपयोग में आ रहे है। मरीजों के परिजन आते है, भरा हुआ गैस सिलेण्डर मांगते है। भरा हुआ नहीं होने के कारण उनको खाली सिलेण्डर गैस उपलब्ध करवा रहे है। मरीज के परिजन अपने स्तर पर गैस की व्यवस्था करवा रहे है।

Atul Acharya Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned