कोविड 19 के दौरान अभिभावकों की भूमिका

कोविड 19 के दौरान अभिभावकों की भूमिका

By: Atul Acharya

Published: 16 May 2021, 04:54 PM IST

-डॉ. तुलसी गिरी

COVID-19 महामारी से निपटना हम सभी पर कठिन है, लेकिन यह बच्चों पर विशेष रूप से कठिन हो सकता है। बच्चों को विभिन्न प्रकार की भावनाओं का अनुभव हो सकता है जैसे कि भय, भ्रम, क्रोध, और चिंता जो उनके मानसिक तथा शारीरिक विकास को प्रभावित कर सकते हैं। हमारे बच्चों ने कभी भी अलगाव के इस स्तर का अनुभव नहीं किया है जरूरी है कि माता-पिता इस कठिन समय के दौरान बच्चों के विचलित कर देने वाले व्यवहार को अनुभव करे और उनकी चिंता और जटिल भावनाओं को समझने के लिए उचित भावनात्मक, सकारात्मक तथा रचनात्मक व्यव्हार की आव्श्यक्यता है
मनोचिकित्सको के अनुसार बच्चे इस बात को लेकर भ्रमित हो सकते हैं कि वे स्कूल क्यों नहीं जा सकते, या वे वायरस के कारण अपने दोस्तों और परिवारों के साथ मजेदार चीजें क्यों नहीं कर सकते। यह वायरस या उनकी वर्तमान परिस्थितियों के बारे में शैक्षिक गतिविधियों और बातचीत से बचने की तरह लग सकता है।


जिससे उनमे निराशा और चिंता हो सकती है। COVID-19 के परिणामस्वरूप, बच्चे अपने दोस्तों और शिक्षकों की कमी महसूस कर सकते हैं। इससे कुछ बच्चे अक्सर अकड़न, बिस्तर गीला करना, नींद न आना, अंगूठा चूसना, गुस्सा नखरे और ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई जैसे अवांछनीय व्यवहार व्यक्त करते हैं। ये सभी वो अपना भ्रम अभिव्यक्त करने के लिए करते है


जिसकी वजह से बच्चे अपने माता-पिता के साथ सामजस्य बैठने के लिए सोदेबजी की तरह भी बात करने का प्रयास करते हैं। अपना काम स्वयं करना, पढाई करना, साफ सफाई का ध्यान रखना, या मास्क पहनना, यदि केवल वे स्कूल वापस जा सकते हैं, अपने दोस्तों से मिल सकते है या पार्क में खेल सकते हैं।


लेकिन जब उन्हें पता चलता है कि उनके सौदेबाजी से उनके हालात नहीं बदलेंगे। फिर से बच्चा अवसाद का शिकार हो सकताहै माता-पिता और भाई-बहनों के साथ बातचीत से बच सकता है, पेट में दर्द, सिरदर्द और थकावट जैसे शारीरिक लक्षणों में अवसाद भी प्रकट हो सकता है। लेकिन बच्चे को अपनी नई दिनचर्या और वास्तविकता के बारे में समझाया जाना चाहिए, ये सब चीजें इस समय के लिए अलग हैं, इसका मतलब यह नहीं है कि हमेशा के लिए ऐसी ही बंदिशों में जीना होगा. अवश्य ही चीजें बाद में सामान्य हो जाएंगी और पुनः सामान्य दिनचर्या शुरू हो पायेगी


इस संकट की घडी में माता-पिता को अपने बच्चों के साथ सकारात्मक तथा रचनात्मक रूप से व्यव्हार करना चाहिए जिसमे अभिभावको का स्वयं सकारात्मक रहना, तनाव से बचना तथा COVID के बारे में बच्चों से खुल कर बात करना जरुरी है विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार हम कुछ सामान्य बातो का ध्यान रखकर एंव अपनी जीवनशैली में ढालकर इस विकट परिस्थिति में स्वयं को, बच्चों को एंव परिवार को सकारात्मक बना सकते हैं.


अपना रूटीन न बिगड़ने दें
विशेषज्ञ भी इस बात से सहमत हैं कि जीवन को व्यवस्थित तथा सुचारू रूप से निर्वाह करने के लिए एक नियमित दिनचर्या होना अतिआवश्यक है वैसा ही हमे इस कोरोना के संकट काल में भी अपनाना चाहिए बेशक हम पूरे दिन घर पर रहें लेकिन यह सुनिश्चित करने की कोशिश करें कि बच्चों के पास अभी भी अपना रूटीन है जैसे कि हर दिन एक ही समय में उठना, खाना, खेलना, पढाई और बिस्तर में जाना। इस महामारी के संकट में अनिश्चितता के तनाव की वजह से यह दिनचर्या बिगडने न दें. लेकिन एक निश्चित शेड्यूल होना आवश्यक है जिसमे कुछ अन्तराल पर गतिविधियों को बदल सकते है पढने और खेलने की अवधि बदल सकते हैं बच्चों के साथ बिताने के लिए समय निर्धारित करें यह मात्र 30 मिनट या उससे अधिक समय के लिए हो सकता है अपने बच्चे से पूछें कि वे क्या करना चाहते हैं टीवी और फोन का प्रयोग कम करें, बात करें जो उन्हें पसंद हैं: खेल, संगीत, मशहूर हस्तियां, दोस्त, अपने पसंदीदा संगीत के लिए एक साथ व्यायाम करें, उनकी बात सुने, उन्हें देखे उन्हें अपना पूरा ध्यान दें। घर में पारिवारिक सौहार्द से जब हम शांतिपूर्ण और प्यार भरे रिश्ते निभाते हैं, तो हमारे बच्चे अधिक सुरक्षित और प्यार महसूस करते हैं। सकारात्मक भाषा, सक्रिय श्रवण, और सहानुभूति तनावपूर्ण समय के तहत शांतिपूर्ण और खुशहाल पारिवारिक वातावरण बनाए रखने में मदद करती है। हम अपने बच्चों के लिए मॉडल हैं कि हम कैसे बात करते हैं और दूसरों के सामने व्यवहार करते हैं, वे कैसे व्यवहार करते हैं इस पर एक बड़ा प्रभाव है! परिवार, वयस्कों और बच्चों में हर किसी से विनम्रतापूर्वक बात करने की कोशिश करें। घर में वयस्कों के बीच खराब वार्तालाप हमारे बच्चों पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। जितना अधिक हम अपने बच्चों के लिए शांतिपूर्ण, प्यार भरे रिश्तों का अभ्यास करेंगे, वे उतना ही अधिक सुरक्षित और प्यार महसूस करेंगे। सकारात्मक भाषा का प्रयोग करें। परिवार के सदस्य को प्रत्येक दिन एक पूरे-परिवार की गतिविधि चुनने की अनुमति दें अपने साथी के साथ और अपने घर में अन्य वयस्कों के साथ भी गुणवत्ता समय बिताने के तरीके खोजें!


अपनी तथा बच्चों की दिनचर्या में नई गतिविधियों को शामिल करें, जैसे कोई घरेलु एक्सपेरिमेंट करना, घर के काम में सहयोग करना, होम मनेजमेंट की टिप्स देना, पारिवारिक खेल खेलना आदि. ऐसी गतिविधियों का निर्माण करें, जो सभी को कुछ व्यायाम करने में मदद करें, सुरक्षित रूप से, विशेष रूप से अब जब कि कुछ प्रतिबंधों में ढील दी जा रही है। उदाहरण के लिए, छोटी मोटी एक्सरसाईज करना, स्किपिंग करना, छत पर घूमना, अन्य बच्चों के संपर्क के बिना पार्क में जाना । बच्चों की ऊर्जा को स्थिल न होने दें तथा सुनिश्चित करें कि सभी लोग सक्रिय रहें।


अपने बच्चे को सुरक्षित दूरी बनाए रखने के बारे में सिखाएं, आप अपने बच्चे को इस बात पर आश्वस्त कर सकते हैं कि आप कैसे सुरक्षित रख रहे हैं। उनके सुझावों को सुनें और उन्हें गंभीरता से लें। हैंडवाशिंग और हाइजीन को मजेदार बनाएं हाथ धोने के लिए छोटे जिंगल या गीत बनाएं। बच्चों को नियमित हैंडवाशिंग के लिए प्रशंसा दें। आप अपने बच्चे के व्यवहार के लिए एक आदर्श हैं यदि आप अपने आप को सुरक्षित दूरी और स्वच्छता रखने का अभ्यास करते हैं, और दूसरों के साथ दया का व्यवहार करते हैं, विशेष रूप से वे जो बीमार या कमजोर हैं - आपके बच्चे और किशोर आपसे सीखेंगे। प्रत्येक दिन के अंत में, दिन के बारे में सोचने के लिए एक मिनट लें। अपने बच्चे को एक सकारात्मक या मजेदार चीज के बारे में बताएं जो उन्होंने किया था। आज आपने जो अच्छा किया उसके लिए प्रशंसा करें।


अपनी खुद की चिंता व् तनाव का समाधान करें
यह एक तनावपूर्ण समय है। अपना ख्याल रखें, ताकि आप अपने बच्चों को सहारा दे सकें। हम अकेले नही करोड़ो लोगों में हमारे समान भय है। किसी ऐसे व्यक्ति को खोजें, जिसके बारे में आप बात कर सकें कि आप कैसा महसूस कर रहे हैं। उनकी बात सुनो। अवश्य ही यह चिंतित होने का समय है लेकिन हम उस चिंता का समाधान कैसे सुनिश्चित करें की इसके दुष्प्रभाव से बचा जा सके । बच्चों के साथ बात करना, उन्हें समझने में मदद करने का सबसे अच्छा तरीका है। लेकिन याद रखें कि बच्चों को हर छोटी चीज़ जानने की ज़रूरत नहीं है। जब तक बच्चे विशेष रूप से नहीं पूछते हैं, तब तक स्वयं अनावश्यक जानकारी नहीं दे जो उन्हें चिंतित कर सकता है। अपनी चिंताओं को नियंत्रण में रखने से आपके पूरे परिवार को इस अनिश्चित स्थिति को आसानी से निपटने में मदद मिलेगी।


उदाहरण के लिए, प्रत्येक खाँसी को मान लेना एक संकेत है जिसे आप संक्रमित कर चुके हैं, या सबसे बेहद आहात करने वाले आंकड़ो वाले समाचारों को पढ़ना, सिर्फ संक्रमण सम्बंधित समाचार विडियो देखना, हमेशा संक्रमण के भय से नकारात्मक रवैया रखना । समाधान-केंद्रित सोच में संलग्न रहें और इसे मनोनुकूल स्वीकृति के साथ संतुलित करें कि हम अगर सावधानिय रखे तो स्वयं को तथा परिवार को इस संक्रमण से बचा सकते है यह सब जीवन पर्यंत नही चलने वाला है। उन क्षणों के लिए जब आप खुद नकारात्मक महसूस कर रहे है तो बच्चों के सामने अपनी चिंताओं के बारे में बात करने से बचें। एक ब्रेक ले सकते है, यह एक शॉवर लेने या बाहर जाने या दूसरे कमरे में जाने और कुछ गहरी साँस लेने की तरह लग सकता है।


संक्रमण सम्बंधित नकारात्मक खबरों से दुरी बनाये रखे
सूचित रहना महत्वपूर्ण है, लेकिन समाचार और सोशल मीडिया को सीमित करने के लिए यह एक अच्छा विचार है जिसमें आपकी चिंता और आपके बच्चों को प्रेरित करने की क्षमता है। टीवी का समय कम करे, उन मित्रों या सह-कर्मचारियों को सोशल मीडिया अनफ़ॉलो करें, जिनके मेसेज या पोस्ट संक्रमण सम्बंधित हो या जो पैनिक करते है। इस संकट की प्रतिक्रिया में आपको समस्या का समाधान देखना बच्चों के लिए शिक्षाप्रद और आश्वस्त करने वाला हो सकता है।


सुरक्षित ऑनलाइन आदतें बनाएं अपने बच्चे या किशोर को डिवाइस के उपयोग के बारे में पारिवारिक तकनीकी समझौते बनाने में शामिल करें अपने घर में डिवाइस-मुक्त स्थान और समय बनाएं (खाने, खेलने, स्कूल जाने और सोने) अपने बच्चे को निजी जानकारी रखने में मदद करें अपने बच्चे या किशोर के साथ बेहद लिमिटेड ऑनलाइन समय भी बिताएं। वेबसाइटों, सोशल मीडिया, गेम्स और ऐप्स की जानकारी दे अपने किशोर से बात करें कि अनुचित सामग्री की रिपोर्ट कैसे करें, कॉमन सेंस मीडिया में अलग-अलग उम्र के ऐप्स, गेम्स और मनोरंजन के लिए बहुत अच्छी सलाह होती है।


वित्तीय तनाव का आपस में समाधान करे
वित्तीय तनाव के समय में परिवार का बजट COVID-19 के कारण करोडो लोग पैसे के बारे में तनाव में हैं। यह हमें थका हुआ, क्रोधित और विचलित महसूस कर सकता है। बच्चों या किशोरों से चीजें माँगने पर बहस हो सकती है। लेकिन हम ऐसे काम कर सकते हैं जो वित्तीय तनाव से निपटने में मदद करते हैं। बच्चों और किशोरों को पारिवारिक बजट बनाने में शामिल करें एक बजट है कि हम कैसे तय करते हैं कि हम अपना पैसा किस पर खर्च करेंगे, यहां तक कि तनावपूर्ण समय में भी एक साथ बजट बनाने से बच्चों को यह समझने में मदद मिलती है कि हम सभी को कठिन समय में कठोर निर्णय लेने की आवश्यकता है, यह परिवारों को महीने के अंत में पर्याप्त होने में मदद करता है, और कम उधार लें पता करें कि क्या आपकी मदद कर सकता है आपकी सरकार COVID-19 के दौरान परिवारों को पैसे, या खाद्य पार्सल दे सकती है, इस बारे में पूछें कि क्या आपके समुदाय में स्थान समर्थन दे रहे हैं अब हम क्या खर्च करते हैं? अपने बच्चों के साथ चर्चा करें कि एक परिवार के रूप में आप किन चीजों पर कम खर्च करने की कोशिश कर सकते हैं


COVID-19 संकट हमेशा के लिए नहीं है रचनात्मक, सकारात्मक और लचीले रहें आपको एक संतुलन बनाना होगा जो इस विकट परिस्थिति में आपके परिवार में सोहार्द बनाये रख सके

Atul Acharya Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned