बीकानेर : अश्व केन्द्र में अब नजर आएगा झरना और पुल

bikaner news : बीकानेर. राष्ट्रीय अश्व अनुसन्धान केन्द्र जाने वाले सैलानियों को अब वहां पबर सिर्फ घोड़े ही नजर नहीं आएगे। पर्यटकों को और अधिक लुभाने के लिए अब यहां पर झरना, पुल तथा अन्य दर्शनीय स्थल भी तैयार किए गए है।

पर्यटन: सैलानियों को लुभाने के लिए बना स्थल

बीकानेर. राष्ट्रीय अश्व अनुसन्धान केन्द्र जाने वाले सैलानियों को अब वहां पबर सिर्फ घोड़े ही नजर नहीं आएगे। पर्यटकों को और अधिक लुभाने के लिए अब यहां पर झरना, पुल तथा अन्य दर्शनीय स्थल भी तैयार किए गए है। केन्द्र में पर्यटकों के लिए ओएसिस मरुस्थस रविवार को खोला गया।

केंद्र के प्रभारी अधिकारी डॉ एससी मेहता ने कहा कि विशेष फोटोग्राफी के लिए आने वाले पर्यटकों की मांग पर ओएसिस यानि मरुस्थल के बीचों बीच एक रमणीय झरना एवं लकड़ी का पुल बनाया है। इस प्रकार अब यहां एक ही स्थान पर अत्यंत हरे बाग बगीचे भी हैं एवं रेतीले धोरों एवं झोंपडिय़ों के साथ झरना एवं लकड़ी का पुल भी है । राजा शाही बग्गी, तांगा एवं घुड़ सवारी पहले से ही उपलब्ध है।

इस अवसर पर सविता मेहता ने कहा की यह ओएसिस इस तरह एवं ऐसी जगह बनाया गया है जोकि राजस्थान पर्यटन विभाग के स्लोगन जाने क्या दिख जायको चरितार्थ करता है । उन्होंने ने कहा की पानी का अपना एक अलग ही आकर्षण होता है एवं यह स्थान सेल्फी लेने के लिए एवं प्रिवेडिंग शूट वालों को बहुत सूट करेगा। इस अवसर पर तकनीकी अधिकारी कमल सिंह ने कहा की घोड़े एवं आम आदमी के मध्य के पुराने रिश्ते को जीवित करने की दिशा में केंद्र ने पिछले दो वर्षों में कई नए कार्य किए हैं। इस अवसर पर प्रतिभा सिंह ने कहा कि इस ओएसिस के लिए कोई अलग से शुल्क नहीं है।

Jitendra
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned