बीकानेर में सीबी-नैट मशीन से जांचें नहीं हुई शुरू, आपात स्थिति में देरी से मिल रही जांच

खों रुपए मशीन बेकार पड़ी है यहां

By: Jaiprakash

Updated: 14 Jun 2020, 10:54 AM IST

बीकानेर। कोरोना का कहर दिन-प्रतिदिन बढ़ रहा है। सरकार कोरोना सैम्पलों की जांच जल्दी कर रिपोर्ट शीघ्र देने की कोशिशें कर रही है। कोरोना के कहर के मद्देनजर इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च सेंटर ने जांच रफ्तार को बढ़ाने के लिए टीबी जांच में काम ली जाने वाली सीबी नॉट मशीन से कोरोना जांच की मंजूरी दे दी थी लेकिन एसपी मेडिकल कॉलेज में अब तक सीबी नॉट मशीन से जांच शुरू नहीं हो पाई है। इस मशीन से जांच शुरू होने पर कम समय और अधिक संख्या में कोरोना संक्रमण की जांच की जा सकेगी।

एक से दो घंटे में ही आ सकती है जांच रिपोर्ट
वर्तमान में कोरोना जांच में न्यूक्लिक एसिड (आरएनए) मरीज के स्वैब को लैब में निकाला जाता है। यह काम रियल टाइम मैथेड से मैनुअल किया जाता है। न्यूक्लिक एसिड निकालकर उसे पीसीआर मशीन में रन करना होता है। पूरी प्रक्रिया में चार से पांच घंटे लग जाते हैं जबकि सीबी-नैट कार्टिलेज बेस्ड न्यूक्लिक एसिड टेस्ट मशीन है। सीबी-नैट में मैनुअल काम का झंझट नहीं है। एक बार सैंपल लगाकर मशीन चला देने पर एक-दो घंटे में जांच पूरी हो जाती है।

कारटेज व कैसेट बदलने की जरूरत
माइक्रोबायलॉजी विभाग के विशेषज्ञ चिकित्सकों के मुताबिक कोरोना वायरस की जांच अब टीबी की जांच करने वाली सीबी-नैट (कारटेज बेस्ड न्यूक्लिक एसिड टेस्ट मशीन) से की जा सकती है। इस मशीन से जांच दो घंटे के भीतर की हो जाती है। टीबी जांच मशीन में कोरोना जांच के लिए केवल कारटेज व कैसेट बदलने की जरूरत पड़ती है। अभी बीकानेर में आरटी-पीसीआर मशीन से कोरोना की जांच की जा रही है, जिसमें छह से आठ घंटे लग रहे हैं।


एक बार में महज चार सैम्पल
सीबी-नैट मशीन में एक बार में केवल चार सैम्पलों की जांच की सकती है। २४ घंटे के भीतर अधिकतम ४८ सैम्पलों की जांच की जा सकेगी। चिकित्सक ने बताया कि आरटी-पीसीआर मशीन से नाक और गले दोनों जगह से लिए गए स्वाब के सैम्पलों की जांच की जा सकती है लेकिन सीबी-नैट मशीन से सिर्फ नाक से लिए गए सैम्पल की जांच की जा सकेगी।


यह होगा फायदा
सीबी-नैट मशीन से इमरजेंसी सैम्पलों की कोरोना जांच की जा सकेगी। किसी की मौत होने पर उसकी जांच जल्दी कर रिपोर्ट दी जा सकेगी। अगर वह पॉजिटिव आता है तो उसका सैम्पल दूबारा जांच किया जा सकेगा अन्यथा नेगेटिव आने पर रिपोर्ट दे दी जाएगी। इससे मृतक के परिजनों को राहत मिलेगी।

सरकार को लिखा पत्र
सीबी-नैट मशीन से टीबी की जांच की जाती है। अब इससे कोरोना संक्रमण की भी जांच की जा सकेगी। इसके लिए कारटेज की अलग से जरूरत है। कारटेज उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार को पत्र लिखा गया है जो अभी तक मिला नहीं है। कारटेज मिलते ही कई जांचें इस मशीन से की जा सकेगी, जिससे रिपोर्ट जल्दी मिलेगी।
डॉ. एलए गौरी, कार्यवाहक प्राचार्य एसपी मेडिकल कॉलेज

coronavirus
Jaiprakash Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned