रसोई में बदले खाने-पीने के मैन्यू, पहनावें में हो रहा बदलाव

शहर में सर्दी का बढ़ रहा असर Increasing effect of cold, सर्दी से बचाव के लिए ऊनी वस्त्रों और गर्म भोजन का उपयोग शुरू







By: Vimal

Published: 16 Dec 2020, 12:06 AM IST

बीकानेर. शहर में सर्दी की दस्तक के साथ ही आमजन की दैनिक दिनचर्या ( a routine ) प्रभावित होनी शुरू हो गई। सर्दी से बचाव के लिए जहां गर्म और ऊनी वस्त्रों का उपयोग शुरू हो गया है वहीं सर्दी से बचाव के लिए अब खाने-पीने के मैन्यू ( food menu ) भी बदलने शुरू हो गए है। घरों में अब तक रसोई ( kitchen) में दैनिक रूप से उपयोग हो रही खाद्य वस्तुओं ( food items ) की जगह तैलिय और गरिष्ठ भोजन ( food ) का उपयोग शुरू हो गया है। गुड, घी, तेल, मूंगफली आदि से तैयार खाद्य वस्तुओं का उपयोग प्रार भ हो गया है वहीं शीतल पेय पदार्थो के स्थान पर गर्म पदार्थो का सेवन बढ़ गया है।

 

बाजरा, तिल और मंूगफली का उपयोग बढ़ा
सर्दी से बचाव के लिए बाजरा से बनी रोटिया, फली, फोफलिया, खेलरा, मूली की सब्जी और गुड का उपयोग रसोई के मैन्यू का हिस्सा बन गया है। वहीं नाश्ते में मूंगफली, तिल, गुड और ड्राई फू्रट से तैयार गजक, पपड़ी, तिलपट्टी का उपयोग शुरू हो गया है। वहीं हलुआ, मेथी से बने लड्डू, गोंद, बादाम से बने लड्डू के बनने से घर-घर महक ( Mehak) रहे है। घरों में घाट, बाट, गुळराब, खीचड़ा, गुळ से तैयार चावल रसोई का मैन्यू बन गए है।

 

गर्म दूध की बिक्री बढ़ी
शहर में सर्दी के मौसम में जगह-जगह केशर युक्त दूध की बिक्री आम है। सर्दी बढऩे के साथ दूध की कडाईयां शाम होते लग जाती है। रात तक इन दूध बिक्री स्थलों पर दूध पीने के शौकिन लोग गर्म दूध मलाई के साथ पीते है। जस्सूसर गेट, द माणीा चौक, मोहता चौक, बड़ा बाजार, दांती बाजार, भुजिया बाजार सहित कई स्थान गर्म दूध की कडाईयों के लिए प्रसिद्ध है।

 

ठाकुरजी ओढ रहे रजाई, भोजन हुआ गर्म
सर्दी की दस्तक के साथ आमजन ही नहीं शहर के मंदिरों में भी सर्दी के अनुकूल ठाकुरजी ( Thakurji ) के गर्म वस्त्र और भोजन गर्म हो गया है। नगर सेठ लक्ष्मीनाथ मंदिर के पुजारी शंकर सेवग के अनुसार सर्दी में ठाकुरजी गर्म और रूई से बने कपड़े पहन रहे है। पोढावना में चद्दर के स्थान पर अब रजाई हो गई है। ठाकुरजी के भोजन में गोंद पाक, सूठ के लड्डू, गोंद और मेथी के लड्डू, केशर युक्त दूध, मूंगफली व तिल से बनी पपड़ी, ड्राई फ्रूट, अंजीर तथा गर्म भोजन का उपयोग हो रहा है। सर्दी के मौसम में मिगसर से फाल्गुन तक यह व्यवस्था रहती है।

Show More
Vimal Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned