मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारियों को फिलहाल नहीं मिलेगी गाड़ी

bikaner news - Chief Block Education Officers will not get the car at present

By: Jaibhagwan Upadhyay

Updated: 18 Apr 2021, 07:39 PM IST

वित्त विभाग ने नहीं दी मंजूरी
बीकानेर
शिक्षा विभाग में लगाए गए मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारियों को अपने ब्लॉक की स्कूलों के प्रभावी पर्यवेक्षण, निरीक्षण तथा जांच आदि के लिए फिलहाल कोई गाड़ी नहीं दी जाएगी। उन्हें अपने स्तर पर ही अपने क्षेत्र की ग्रामीण स्कूलों का निरीक्षण, पर्यवेक्षण तथा जांच आदि करने के लिए पहुंचना होगा। वित्त विभाग के अनुसार उन्हें नियमानुसार बस किराया, टीए, डीए जरूर मिलेगा।

फिलहाल वित्त विभाग ने प्रारंभिक शिक्षा विभाग के 301 मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारियों को किराए के वाहन उपलब्ध कराने के प्रस्तावों को नामंजूर कर दिया है। वित्त विभाग का मानना है कि वर्तमान में कोविड 19 का प्रकोप चल रहा है ऐसे में स्कूल बंद है इसलिए फिलहाल स्कूलों का निरीक्षण, पर्यवेक्षण तथा जांच आदि के प्रकरण या तो होंगे नही या फिर होंगे तो सीमित संख्या में होंगे। ऐसे में मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारियों को किराए पर वाहन उपलब्ध कराए जाने के प्रस्तावों से वो सहमत नहीं है।

गौरतलब है कि ग्रामीण क्षेत्र की स्कूलों में विभाग की योजनाओं को प्रभावी तरीके से लागू करने के लिए जिला शिक्षा अधिकारी स्तर के मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारियों को ब्लॉक स्तर पर पद स्वीकृत कर लगाया गया था तथा उनके कार्यालय स्थापित किए गए थे ।

संबंधित ब्लॉक की स्कूलों का निरीक्षण करने, पर्यवेक्षण करने तथा तालाबंदी अथवा अन्य कोई घटना होने पर मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी को तुरंत पहुंचने के निर्देश भी दिए गए हंै। ग्रामीण क्षेत्र में बसों तथा यातायात के साधनों का काफी अभाव होने से इनका दूरस्थ स्कूलों में पहुंचना काफी दूभर होता है। कई बार तो साधन नही होने से अधिकारी तुरंत पहुंच भी नहीं पाते इन्हीं को ध्यान में रखते हुए प्रारंभिक शिक्षा निदेशालय ने 301 मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारियों को किराए पर वाहन उपलब्ध कराने की प्रशासनिक स्वीकृति एवं सहमति चाही थी, जिसे वित्त विभाग ने नामंजूर कर दिया है।

इनका कहना है

मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारियों को दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्र की ऐसी स्कूलों में भी जाना होता है, जहां पर नियमित बसे नहीं मिलती, ऐसे में निरीक्षण आदि में परेशानी होती है। इसलिए इन अधिकारियों को वाहन उपलब्ध कराएं जाने चाहिए ताकि वे आकस्मिक निरीक्षण कर सकें।

डॉ. विजय शंकर आचार्य, पूर्व संयुक्त निदेशक माध्यमिक शिक्षा निदेशालय, बीकानेर

Jaibhagwan Upadhyay Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned