जेबकतरों का पीछा कर रहे कांस्टेबल की ट्रेन की चपेट में आने से मौत, देखें वीडियो

Anushree Joshi

Publish: Feb, 15 2018 10:35:46 AM (IST)

Bikaner, Rajasthan, India

नोखा रेलवे स्टेशन के नजदीक जेबकतरों का पीछा कर रहे एक कांस्टेबल की ट्रेन की चपेट में आने से मौत हो गई। इस बीच जेबकतरे भाग गए। घटना के बाद मौके पर भारी भीड़ जमा हो गई। सूचना पर मुकाम मेले में गए सीआई मनोज शर्मा मौके पर पहुंचे। पुलिस ने शव को स्थानीय चिकित्सालय की मोर्चरी में रखवाया है।

 

श्रीबाालाजी थाने के सतेरण गांव निवासी श्रवणराम (39) पुत्र बगड़ाराम बिश्नोई बुधवार शाम को नोखा रेलवे स्टेशन पर जेबकतरों का पीछा कर रहे थे। वे जेबकतरों के पीछा करते समय पैर फिसलने से रेलवे ट्रैक के बीच में गिर गए। तभी वहां से गुजर रही जोधपुर-बठिंडा पैसेंजर ट्रेन की चपेट में आ गए, जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई। सूचना मिलने पर जीआरपी एवं नोखा थाने से पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे और घटना की जानकारी ली।

 

स्टेशन पर कर रहे थे जांच
सीआई मनोज शर्मा के मुताबिक मुकाल में मेला चल रहा है। बस स्टैंड व रेलवे स्टेशन पर सुरक्षा व कानून व्यवस्था के लिहाज से निगरानी रखी जा रही थी। शाम को सूचना मिली की ट्रेन व बसों से संदिग्ध नकबजन आ रहे हैं। इसलिए रेलवे स्टेशन पर जांच-पड़ताल की जा रही थी।

 

तभी कुछ लोग रेलवे ट्रैक की तरफ दौड़े। वहां ड्यूटी पर तैनाज कांस्टेबल श्रवणराम बिश्नोई व अन्य जवानों ने उनका पीछा किया। दौड़ते समय श्रवणराम का पैर फिसल गया और वे रेलवे ट्रैक पर गिर पड़े। तभी पीछे से ट्रेन आ गई और वे उसकी चपेट में आ गए। कांस्टेबल की मौके पर ही मौत हो गई।

 

श्रवण 19 साल से थे पुलिस में
श्रवण बिश्नोई 1999 के बैच के थे। वे करीब डेढ़ साल पहले ही अजमेर से ट्रांसफर होकर बीकानेर आए थे। यहां पांच-छह महीने तक पुलिस लाइन में रहे। उनका सालभर पहले ही नोखा में पदस्थापन हुआ। तभी से श्रवण नोखा थाने में ही पदस्थापित थे ।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned