140 बीघा में निगम की गौशाला, 15 हजार पशुओं की क्षमता, एक साल से एक भी पशु नहीं

साढ़े तीन करोड़ रुपए से अधिक की राशि हो चुकी खर्च

शहर की सडक़ों पर घूम रहे हजारों पशु

By: Vimal

Published: 10 Sep 2021, 10:01 AM IST

बीकानेर. सरह नथानिया क्षेत्र में नगर निगम की गौशाला होने के बाद भी शहर की सडक़ों पर हजारों पशु बेसहारा खुले में घूम रहे हैं। करीब 140 बीघा भूमि पर बनी इस गौशाला में पिछले करीब एक साल से निगम पशुओं को नहीं डाल रहा है। बताया जा रहा है कि इस गौशाला में 15 हजार से भी अधिक पशुओं को रखा जा सकता है। वर्तमान में इस गौशाला में करीब पांच सौ पशु रह रहे हैं। वर्ष 2019 से अब तक इस गौशाला पर साढ़े तीन करोड़ रूपए से भी अधिक की राशि खर्च हो चुकी है। करोड़ों रुपए खर्च होने का लाभ बेसहारा पशुओं को नहीं मिल रहा है।


करोड़ों का भुगतान बकाया, गौशाला में महज पांच सौ पशु

नगर निगम की पूगल रोड स्थित गौशाला का संचालन सोहन लाल बुलादेवी ओझा गौशाला समिति कर रही है। गौशाला समिति अध्यक्ष का कहना हैं कि पिछले पन्द्रह महीनों से निगम पशुओं के भरण पोषण का भुगतान नहीं कर रहा है। समिति की गाढ़वाला स्थित गौशाला में रह रहे पशुओं का भुगतान भी निगम नहीं कर रहा है। अध्यक्ष के अनुसार निगम गौशाला में वर्तमान में करीब पांच सौ पशु रह रहे हैं।

गौशाला में पहुंचे पशु तो जनता को मिले राहत
शहर की सडक़ों पर घूम रहे पशुओं को अगर नगर निगम गौशाला में रखने की व्यवस्था हो तो शहरवासियों को बेसहारा पशुओं से राहत मिल सकती है। इस गौशाला में 15 हजार से अधिक पशु रखे जा सकते हैं। पूगल रोड गौशाला समिति से जुड़े हरिओम के अनुसार निगम पिछले करीब एक साल से इस गौशाला में पशु नहीं डाल रहा है।

सडक़ों से गलियों तक बेसहारा पशु

शहर के मुख्य मार्गो, बाजारों, कॉलोनी क्षेत्रों से लेकर पुराने शहर के गली-मोहल्लों तक बेसहारा पशुओं का जमावड़ा है। हालात यह है कि मुख्य मार्गो पर वाहनों से अधिक बेसहारा पशु विचरण करते नजर आते हैं। व्यस्तम बाजारों में भी पशुओं की भरमार है। आए दिन पशुओं के कारण लोग घायल हो रहे हैं। निगम न इन पशुओं को पकड़ रहा है और ना ही इन पशुओं को अपनी गौशाला में रखने को लेकर गंभीर प्रयास कर रहा है।

Vimal Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned