आग लगने से उजड़े आशियाने

नाथवाणा गांव के चक 11 एलकेडी के खेत में एक दलित परिवार की ढाणी में आग लगने से सामान जल गया। लालचंद सींवर ने बताया कि हरियासर गांव निवासी मदनलाल पुत्र भानीराम नायक नाथवाणा के गणेशाराम गाट के खेत में ठेके पर काश्त करता है।

By: Nikhil swami

Published: 08 Dec 2019, 11:13 AM IST

लूणकरनसर. नाथवाणा गांव के चक 11 एलकेडी के खेत में एक दलित परिवार की ढाणी में आग लगने से सामान जल गया। लालचंद सींवर ने बताया कि हरियासर गांव निवासी मदनलाल पुत्र भानीराम नायक नाथवाणा के गणेशाराम गाट के खेत में ठेके पर काश्त करता है।

शनिवार शाम करीब ४.१५ बजे अचानक खेत में बने झोपड़े में आग लग गई। घटना के वक्त बच्चे ढाणी के पास थे तथा अन्य परिवार के सदस्य खेत में काम कर रहे थे। अचानक लगी आग से झोपड़े से उठी लपटों के बाद आस-पड़ौस के लोगों को पता चला लेकिन तब तक गरीब परिवार के ओढऩे-पहनने के कपड़े, बर्तन, राशन का सामान, अनाज, सोने-चांदी के जेवरात, नगदी समेत अन्य सामान जलकर राख बन गया।

बीमा कम्पनी को देना होगा क्लेम
बीकानेर. न्यायालय जिला उपभोक्ता मंच ने एक प्रकरण की सुनवाई करते हुए बीमा कम्पनी को परिवादी के नाम चिकित्सा पुनर्भरण राशि व जुर्माना अदा करने के आदेश दिए हैं। प्रकरण के अनुसार परिवादी राकेश साही ने अपने परिवार का स्वास्थ्य बीमा करवाया था। बीमा अवधि के दौरान राकेश साही की पत्नी गंभीर बीमार हो गई।

परिवादी ने उसका पहले बीकानेर और बाद में जयपुर स्थित एक निजी अस्पताल में उपचार करवाया। उपचार में करीब एक लाख ९० हजार रुपए खर्च हुए। परिवादी ने उपचार में खर्च राशि के पुनर्भरण के लिए बीमा कम्पनी को बिल दिया तो कम्पनी ने यह कहते हुए इनकार कर दिया कि परिवादी की पत्नी को बीमा लेने से पहले बीमारी थी। एेसे में उसे बीमा क्लेम नहीं दिया जाएगा। प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए मंच के अध्यक्ष ओपी सीवर व सदस्य पुखराज जोशी ने बीमा कम्पनी की सेवा में कमी मानते हुए उसे उपचार में व्यय पूरी राशि अदा करने के आदेश दिए।

Nikhil swami Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned