scriptडि ग्गियों में गंदगी जमा, फ्लोराइड युक्त पानी पीने को मजबूर यहां के ग्रामीण | Patrika News
बीकानेर

डि ग्गियों में गंदगी जमा, फ्लोराइड युक्त पानी पीने को मजबूर यहां के ग्रामीण

उपखंड क्षेत्र के कई गांवों में पीने के पानी की समस्याएं बनी है। कई गांवों में डिग्गियों में कई वर्षों से सफाई भी नहीं हुई है, जिससे ग्रामीण दूषित पानी पीने को मजबूर

बीकानेरJun 22, 2024 / 05:56 pm

Hari

पूगल के जलदाय विभाग कार्यालय में बनी पानी की डिग्गी में जमी गदंगी।

फ्लोरोसिस बीमारी की चपेट में आ रहे ग्रामीण

पूगल उपखंड मुख्यालय के चार हजार से अधिक ग्रामीण पिछले कई वर्षों से फलोराइड युक्त पानी पीने को मजबूर है। कस्बे सहित उपखंड क्षेत्र के कई गांवों में पीने के पानी की समस्याएं बनी है। कई गांवों में डिग्गियों में कई वर्षों से सफाई भी नहीं हुई है, जिससे ग्रामीण दूषित पानी पीने को मजबूर हैं। लंबे समय से डिग्गियां खाली रहने से झाड़झंखाड़ उग चुके हैं और डिग्गियां जगह जगह से टूट चुकी हैं। पूगल वाटर वर्क्स में पेयजल की तीन डिग्गियां बनी है। इनमें से एक डिग्गी क्षतिग्रस्त हो रखी है जिसे अभी तक दुरुस्त नहीं किया गया है तथा दो डिग्गियों में काई जमी है और मछलियां व पक्षी मरे पड़े हैं जिससे सप्लाई देने पर पानी संधाड़ मारता है। यहां फलोराइड युक्त पानी पीने को लोग मजबूर व बेबस है। इससे छोटे से लेकर बुजुर्ग घुटनों, जोड़ों, पेट दर्द आदि बीमारी से ग्रस्त हैं। समाज सेवी रामकुमार जांगू ने बताया कि पूगल में फ्लोराइड युक्त पानी पीने से बीमारियां बढ़ी है।नहर का पानी पूगल में यूं भी सप्लाई नहीं हो पाता है। जब तक मुख्य नहर से 12 इंच की पाइप लाइन नही डाली जाती है। तब तक यही समस्या बनी रहेगी।
फर्जी कनेक्शन व लीकेज से गहराई समस्या

उपखंड मुख्यालय पर जलदाय विभाग व ठेकेदारों की लापरवाही से विभिन्न मोहल्लों में पानी के फर्जी कनेक्शन हो रखे हैं। जगह जगह पाइप लाइन में लीकेज हो रखा हैं। इस संबंध में कई बार अवगत करवाने पर कोई सुध नहीं ले रहा हैं। इससे टेल के उपभोक्ताओं को मजबूरन पैसे देकर पानी के टैंकर डलवाने पड़ रहे हैं। जलदाय विभाग में कभी भी कोई कर्मचारी मौके व समय पर नहीं मिलता है। साथ ही पानी की सप्लाई समय पर नहीं दे रहे है। वार्ड नंबर 5, 6, 7, 8 आदि में 10 से 15 दिनों तक सप्लाई चालू नहीं की जाती है।

Hindi News/ Bikaner / डि ग्गियों में गंदगी जमा, फ्लोराइड युक्त पानी पीने को मजबूर यहां के ग्रामीण

ट्रेंडिंग वीडियो