पानी बन रहा आफत, मकान दरकने की आशंका

सोमारनाथ कुटिया के पास पाल टूटने से मकानों तक पहुंचा पानी, लोग हुए परेशान

सुजानदेसर क्षेत्र में जगह-जगह गंदे पानी की झील, कच्चे नाले अधिक पानी की आवक से टूट सकते है

By: Vimal

Published: 14 Sep 2021, 06:05 PM IST

बीकानेर. सुजानदेसर क्षेत्र में सोमारनाथ कुटिया खुदखुदा डेरे के पास गंदे पानी की झील और नाला आमजन के लिए समस्या बन गया है। शहर में पिछले कई दिनों से हो रही बारिश से गंदे पानी की झील में पानी की आवक बढऩे से पाल व नाला टूटकर आस-पास स्थित आवासीय क्षेत्रों में गंदा पानी पहुंच गया है। मकानों के चारों और गंदा पानी एकत्र होने से मकानों को नुकसान पहुंचने की आशंका बन गई है। सोमारनाथ कुटिया के सामने बने दर्जनों मकान गंदे पानी की चपेट में है। एकत्र गंदे पानी से लोगों का अपने घरों में प्रवेश करना और निकलना मुश्किल बना हुआ है। हालांकि निगम की ओर से यहां मोटर पम्प लगाकर पानी को यहां से निकालकर सीवर चैम्बर में डाला जा रहा है।

 

पाल टूटने से पहुंचा गंदा पानी

क्षेत्र निवासी केशर कुमार और मूलचंद के अनुसार बारिश के दौरान पानी की मात्रा बढ़ गई। नाला कच्चा होने व पाल टूटने के कारण पानी मकानों के आस-पास पहुंच गया। तीन बाद भी कई मकानों के चारों ओर पानी एकत्र है। कीचड़ और गंदगी से लोग परेशान है।

 

दिन का चैन और रात की नींद खराब

शहर में पिछले कुछ दिनों से रोज हो रही बारिश से सोमारनाथ कुटिया हीं नहीं सुजानदेसर, गंगाशहर, भीनासर आदि क्षेत्रों में करीब आधा दर्जन स्थानों पर एकत्र गंदे पानी की झील से लोग आशंकित है। गंदे पानी की झील के आस-पास बने आवासों में रहने वाले लोग कभी गंदा पानी उनके मकानों तक पहुंचने को लेकर आशंकित है। क्षेत्रवासियों के अनुसार पानी की पाल अथवा कच्चा नाला कभी भी टूट सकता है।

 

राहत के उपाय जारी

वार्ड पार्षद राजेश कच्छावा के अनुसार सोमारनाथ कुटिया के पास खुदखुदा डेरे के पास दो स्थानों पर पाल टूटने से गंदा पानी मकानों के पास पहुंचा। निगम ने पानी निकालने के लिए पम्प लगा दिया है व जेसीबी और डम्पर भी लगाए है। उन्होंने बताया कि कुछ लोगों के सहयोग से इस कॉलोनी को गोद लिया गया है। क्षेत्र से निकल रहा नाला डायवर्ट हो और सडक़ बने तथा पेयजल पाइप लाइन डाली जाए इसके प्रयास किए जाएंगे।

 

चांदमल बाग भरने से हुई समस्या

पार्षद राजेश कच्छावा के अनुसार चांदमल बाग को मिट्टी से भरने के कारण पूरे क्षेत्र में गंदे पानी की समस्या बन रही है। चांदमल बाग में बड़ी मात्रा में पानी एकत्र रहता था। इसे मिट्टी से भर देने से पीछे के क्षेत्रों में पानी का भराव बढ़ रहा है। अत्यधिक बारिश के दौरान पानी आवासीय क्षेत्रों तक पहुंच सकता है। पाल टूट सकती है।

 

इन क्षेत्रों में गंदा पानी एकत्र

क्षेत्र निवासी मिलन गहलोत के अनुसार सुजानदेसर, गंगाशहर, भीनासर आदि में आधा दर्जन से भी अधिक एेसे स्थान है जहां गंदे पानी की झील सी बनी हुई है। भाटी मोहल्ला, हरिजन मोहल्ला, मोडजी भट्टा, ब्राह्मणों का मोहल्ला, सोमारनाथ कुटिया के पास, मीराबाई धोरे के पीछे ट्रीटमेंट प्लांट के आस पास,माणक गेस्ट हाउस के पास आदि स्थानों पर गंदा पानी एकत्र रहता है। बल्लभ गार्डन क्षेत्र में लम्बे चौड़े क्षेत्र में गंदा पानी एकत्र है। भारी बारिश के दौरान यह गंदा पानी लोगों के लिए समस्या बन सकता है। गहलोत ने श्रीरामसर के बाद पक्का नाला बनाने, दोनो नालों को बनने वाल पम्पिंग स्टेशन से जोडऩे की बात कही।

Vimal Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned