डीएल का कोड स्कैन करते ही मिलेगी जानकारी

किसी दुर्घटना या फिर आपातकालीन स्थिति में ड्राइविंग लाइसेंस की जांच के लिए अब परिवहन विभाग के चक्कर काटने से निजात मिलने वाली है। अब एंड्रॉयड मोबाइल से लाइसेंस को स्कैन करते ही पूर्ण जानकारी तुरंत मिल सकेगी।

By: dinesh swami

Published: 30 Dec 2018, 11:03 AM IST

किसी दुर्घटना या फिर आपातकालीन स्थिति में ड्राइविंग लाइसेंस की जांच के लिए अब परिवहन विभाग के चक्कर काटने से निजात मिलने वाली है। अब एंड्रॉयड मोबाइल से लाइसेंस को स्कैन करते ही पूर्ण जानकारी तुरंत मिल सकेगी।

 


गौरतलब है कि लाइसेंस को क्यूआर कोडयुक्त बनाने के लिए केन्द्रीय भूतल परिवहन मंत्रालय ने इसकी अधिसूचना जारी कर 30 अक्टूबर को राजपत्र में प्रकाशन कर दिया है। इसके लिए वाहनों के स्मार्ट चिप वाले ड्राइविंग लाइसेंस शीघ्र ही निरस्त किए जाएंगे। उनके स्थान पर क्यूआर कोड व चिप युक्त प्लास्टिक के लाइसेंस बनाए जाएंगे।

 

इस सम्बंध में परिवहन विभाग में भी तैयारियां अंतिम दौर में है। सरकार ने मोटरयान अधिनियम1988 में संशोधन करते हुए ड्राइविंग लाइसेंस में बदलाव किए है। इसे आसानी से इंटरनेट युक्त एंड्रॉयड मोबाइल फोन से स्कैन कर देखा जा सकता है। इसमें चिप रीडर मशीन की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।

 


क्यूआर कोड युक्त लाइसेंस में नाम के साथ माता-पिता का नाम, पता, जन्मतिथि, शैक्षणिक योग्यता, पहचान चिन्ह, मोबाइल नम्बर, वाहन का प्रकार, जारी करने की तिथि, इसकी वैद्यता के साथ ही निर्माणकर्ता अधिकारी का नाम, अंगदान का विकल्प व चयनित अंग सहित 50 से अधिक जानकारियां शामिल होगी।

 

जरूरत पडऩे पर इस लाइसेंस का तुरंत मोबाइल से स्कैन किया जा सकेगा। प्लास्टिक का यह कार्ड आधुनिक एनएफसी सिस्टम से लैस होगा। यह सिस्टम ब्लूट्रूथ और वाइफाई की तरह वायरलैस सिग्नल के सभी प्रकार की रेडियो तरंगों पर सूचना भेजने के सिद्धांत पर काम करता है।

dinesh swami Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned