डॉक्टरों के घर पर संचालित दुकानें होंगी बंद

आदेशों की अवहेलना करने वाले डॉक्टरों पर होगी विभागीय कार्रवाई

 

बीकानेर. राजकीय सेवा के दौरान चिकित्सकों को अपने घरों में दवा की दुकान संचालित करना महंगा पड़ेगा। चिकित्सकों को दुकानें बंद करनी पड़ेगी। अपने घर में दवा की दुकान चलाने वाले डॉक्टरों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी। इस संबंध में शुक्रवार को एसपी मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ. एचएस कुमार ने आदेश जारी किए। उन्होंने आदेश में बताया है कि राजकीय सेवा में रहते चिकित्सकों की ओर से अपने घर में दवा की दुकान खोलने संबंधी शिकायतें लगातार मिल रही है। उन्होंने बताया कि मेडिकल कॉलेज एवं अधीनस्थ चिकित्सालयों में कार्यरत चिकित्सकों को निर्देशित किया गया है कि उनके आवासीय घर में दवा की दुकान संचालित नहीं की जाए। आदेशों की अवहेलना करने पर सम्बन्धि चिकित्सक के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

कमीशन के लिए घरों में ही खोल ली दुकानें

बीकानेर. जिला दवा विक्रेता संघ (रजि.) ने पिछले दिनों जिला कलक्टर, एसपी मेडिकल कॉलेज प्राचार्य एवं पीबीएम अधीक्षक को ज्ञापन दिया था। ज्ञापन में बताया कि मेडिकल कॉलेज एवं उसके अधीनस्थ चिकित्सकों में कार्यरत चिकित्सक राजकीय सेवा में कार्यरत होने के बावूद घरों में दवा की दुकानें संचालित कर रहे हैं। घर में मरीजों से फीस के अलावा दवा का कमीशन ले रहे हैं। दवाओं और जांचों का कमीशन लेने के लिए दुकानें खोल कर मरीजों को लूट रहे हैं। संगठन के चेयरमैन महावीर पुरोहित के नेतृत्व में जगदीशसिंह चौधरी, सचिन गुप्ता, पवन गहलोत, दिनेश कच्छावा, भंवरङ्क्षसह तंवर ने जिला कलक्टर को दिए ज्ञापन में बताया कि डॉक्टरों के बैंक खातों की विशेष जांच कराई जाए। आईएएस व आईपीएस का हर दो साल में तबादला होता है उसी प्रकार चिकित्सकों का भी दो साल बाद तबादला होना चाहिए। पुरोहित ने चेतावनी दी कि चिकित्सकों के घरों में संचालित दवा दुकानों को बंद करने की कार्रवाई नहीं करने पर दवा बाजार बंद रखा जाएगा।

Atul Acharya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned