शिक्षकों के स्थानांतरण व पदस्थापन आदेशों में गलतियों की भरमार

शिक्षकों के स्थानांतरण व पदस्थापन आदेशों में गलतियों की भरमार

dinesh swami | Publish: Jun, 14 2018 01:34:35 PM (IST) Bikaner, Rajasthan, India

शिक्षकों के स्थानांतरण और पदस्थापन आदेशों में गलतियों की भरमार है।

बीकानेर. शिक्षकों के स्थानांतरण और पदस्थापन आदेशों में गलतियों की भरमार है। माध्यमिक शिक्षा निदेशालय में प्रशासनिक अनदेखी और विभागीय लापरवाही से गलत आदेश जारी कर दिए गए। काउंसलिंग के बाद पदस्थापन में जहां व्याख्याताओं को लगाया गया, वहां कई स्थानों पर पहले से व्याख्याता कार्यरत हैं।

 

अब इन गलत आदेशों के संशोधन के लिए शिक्षक दूर-दूर से रोजना माध्यमिक एवं प्रारंभिक शिक्षा निदेशालय में आ रहे हैं। इससे यहां शिक्षकों भीड़ लगी रहती है। निदेशालय के सी अनुभाग का कहना है कि विषयवार शिक्षकों के पदस्थापन मामले में संशोधन आदेश जारी कि ए जा रहे हैं। शाला दर्पण पोर्टल में शिक्षकों के रिक्त पदों की स्थिति और विवरण उपलब्ध है। पोर्टल अपडेट नहीं होने से स्कूल क्रमोन्नत होने की सूचना नहीं मिल पाती है।

 

जिला आवंटन की वरीयता सूची ही गलत
शिक्षा निदेशालय में स्थानान्तरण आदेश और काउंसलिंग के बाद पदस्थापन आदेश साथ निकलने से भी एक पद पर कई स्थानों पर दो शिक्षक लगा दिए गए। वहीं आदेशों में शिक्षक व स्कूल का नाम, जिला और पद आदि में वर्तनी सम्बन्धी त्रुटियां के कारण शिक्षकों को कार्यभार ग्रहण नहीं करवाया जा रहा है। प्रारंभिक शिक्षा निदेशालय में तो २६ हजार शिक्षकों की भर्ती में जिला आवंटन प्रक्रिया में जन्मतिथि सही नहीं होने से जिला आवंटन की वरीयता सूची ही गलत बन गई। बाद में संशोधित सूची जारी की गई।

 

निदेशालय में सभागार का शिलान्यास आज
माध्यमिक शिक्षा निदेशालय में विधायक एवं सांसद कोटे से सभागार के निर्माण के लिए गुरुवार को सुबह शिलान्यास किया जाएगा। इसके लिए बुधवार को माध्यमिक शिक्षा निदेशक ने अधिकारियों की बैठक ली। इस आयोजन में सभी को उपस्थित रहने के निर्देश दिए गए हैं। निदेशालय के नए भवन के उद्घाटन समारोह में सांसद अर्जुनराम मेघवाल, विधायक डॉ. गोपाल जोशी तथा सिद्धि
कुमारी ने कोटे से राशि देने की घोषणा की थी।

 

रोजाना संशोधन आदेश
माध्यमिक शिक्षा निदेशालय में आदेशों में अगर कहीं त्रुटि रह गई है और इसमें संशोधन के लिए शिक्षक आते हैं, तो उनके संशोधन आदेश जारी कर दिए जाते हैं। जारी आदेश की संख्या तो पता नहीं, लेकिन रोजाना संशोधन आदेश जारी किए जा रहे हैं।
नूतन बाला कपिला, संयुक्त निदेशक (कार्मिक), मा.शि. निदेशालय बीकानेर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned