शिक्षा निदेशालय के अधीन स्कूल में पहले से विषय अध्यापक फिर भी लगा दिया दूसरा, अब वेतन में रोड़ा

शिक्षा निदेशालय के अधीन स्कूल में पहले से विषय अध्यापक फिर भी लगा दिया दूसरा, अब वेतन में रोड़ा

Anushree Joshi | Publish: Apr, 17 2018 12:20:33 PM (IST) Bikaner, Rajasthan, India

पद एक स्वीकृत, तबादला कर दूसरा शिक्षक लगा दिया, पुराने शिक्षक को नहीं मिल रहा वेतन, काउंसलिंग से कर रहे समाधान की कोशिश

माध्यमिक शिक्षा निदेशालय के अधीन विभिन्न स्कूलों में एक ही पद पर दो या अधिक शिक्षक लगे हैं। इन स्कूलों में स्वीकृत पद पर विषय अध्यापक होते हुए भी सरकार ने उसी पद पर नए शिक्षक का स्थानान्तरण कर दिया। शिक्षा निदेशक के आदेश पर स्थानान्तरित शिक्षकों को कार्यभार भी ग्रहण करवा दिया।

 

एेसे शिक्षकों जब वेतन देने की बात आई तो नए कार्यग्रहण करने वाले शिक्षक को तो वेतन दे दिया गया, लेकिन पुराने शिक्षक को वेतन का भुगतान नहीं हुआ। एक ही पद पर दो शिक्षक लगाने से कहीं एक तो कहीं दोनों शिक्षक कोर्ट में चले गए। शिक्षा निदेशालय ने ऐसे प्रकरणों में सोमवार को दोनों शिक्षकों को बुलाकर काउंसलिंग की।

 

कोटा से आए शिक्षक अशोक बंसल और मनीष ने बताया कि उन्हें काउंसलिंग के लिए बुलाया है। उन्होंने कहा कि बिना पद नए शिक्षक लगा दिए गए। ऐसे में एक शिक्षक को वेतन भुगतान नहीं हो रहा। दोनों शिक्षक मूल काम छोड़ कोर्ट एवं निदेशालय के चक्कर लगा रहे हैं।

 

निदेशालय स्तर पर ऐसे आदेश उचित नहीं है। कोटा क्षेत्र से ही काउंसलिंग के लिए आई शिक्षिका कल्पना, बिन्दु और दर्पण जैन इन आदेशों से परेशान हैं। इनको अक्टूबर से वेतन नहीं मिला रहा है।

 

लिखित में देने को कहा
ओम प्रभा और दीपा शर्मा दोनों ने ही कोर्ट से स्टे लिया हुआ है। दोनों ही वेतन नहीं मिलने से परेशान हैं। संयुक्त निदेशक (प्रशासन) ने निदेशालय की टीम के साथ काउंसलिंग कर शिक्षिकाओं को अन्यत्र जाने के लिए राजी करने की कोशिश की। एक शिक्षका ने कहा कि उनकी बच्ची छोटी है। वे पहले से ही इस पद पर कार्यरत हैं।

 

नई शिक्षिका स्थानान्तरित होकर आने से उनको वेतन नहीं मिल रहा है। संयुक्त निदेशक ने उनसे अन्यत्र जाने के लिए लिखित में देने को कहा। शिक्षिका ने कहा कि स्थानान्तरित होकर आई शिक्षिकों को ही अन्यत्र भेज दें। इस पर संयुक्त निदेशक ने कहा कि लिखित में नहीं दिया तो निदेशालय निर्णय करेगा।

 

शिक्षकों से समझाइश
एक पद पर दो शिक्षक होने के 40 मामलों में सोमवार को काउंसलिंग की गई है। शिक्षकों से समझाइश की जा रही है कि एक शिक्षक स्वेच्छा से अन्यत्र जाने को तैयार रहे, अन्यथा शिक्षा निदेशालय के स्तर पर एक को अन्यत्र भेज दिया जाएगा।
नूतन बाला कपिला, संयुक्त निदेशक (प्रशासन), माशि निदेशालय बीकानेर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned