कमरे पर ताला लगाते ही बंद हो जाएगी बिजली

रेलवे: बिजली छीजत रोकने की कवायद

By: Ramesh Bissa

Updated: 10 Mar 2019, 12:45 PM IST

बीकानेर. उत्तर पश्चिम रेलवे बीकानेर मंडल बिजली की छीजत रोकने की कवायद में लगा हुआ है। इसके लिए पहली बार महानगरों की तर्ज पर बीकानेर में की-पेट स्विच सिस्टम लागू किया जाएगा। इसके लिए कार्यवाही शुरू कर दी गई है। रेलवे के सूत्रों की माने तो इसी माह के अंत तक बीकानेर में इस अत्याधुनिक तकनीक का काम शुरू हो जाएगा। इसके लिए बीकानेर मंडल में रेलवे ने ४० स्थान चयनित किए गए है, जहां पर यह नई व्यवस्था लागू की जाएगी। इसके बाद रेलवे के विश्रामगृह, रिटायरिंग रूम, अधिकारी विश्रामगृह में नई तकनीक के बिजली स्विच लगाए जाएंगे। रेलवे की विद्युत शाखा इस सिस्टम का
संचालन करेगी।

एलईडी से रोशन
बिजली बचाने के उद्देश्य से ही बीकानेर रेलवे मंडल के सभी स्टेशन एलईडी लाइटों से रोशन है। इसके लिए रेलवे में सोलर ऊर्जा प्लांट भी स्थापित किए गए है। इन प्लांट से बीकानेर के २७ स्टेशनों पर बिजली सुचारु है। साथ ही मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय भी सोलर ऊर्जा से रोशन है।
शीघ्र पूरी होगी योजना
&की-टेक स्विच सिस्टम लागू करने के लिए कवयाद चल रही है। शीघ्र ही योजना सिरे चढ़ेगी और इसके पूरा होने के बाद बिजली की बचत होगी। इस योजना को मूर्त रूप देने के लिए नए सिस्टम का काम इसी माह शुरू हो जाएगा।
जितेन्द्र मीणा, वरिष्ठ वाणिज्य मंडल
प्रबंधक, बीकानेर

इस तरह करेगा काम
नया सिस्टम लागू होने के बाद रेलवे के रिटायरिंग रूम का ताला खोलने के साथ ही बिजली जलेगी। यदि इस दौरान कमरों की बिजली जलती रह गई और ताला बंद कर दिया, तो बिजली भी स्वत: ऑफ हो जाएगी। इसी तरह अधिकारी विश्रामगृह, अतिथि विश्रामगृह के कमरों में भी एसी, कूलर, बिजली सहित बिजली उपकरण कमरों का ताला खुलने से शुरू और बंद होने के साथ ही स्वत: बंद हो जाएंगे। इससे बिजली की अनावश्यक छीजत पर रोक लग सकेगी।

Ramesh Bissa Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned