राजस्थान में 398 सरकारी विद्यालयों में शुरू होगा कृषि संकाय

faculty of agriculture: प्रदेश के 398 राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालयों में कृषि विज्ञान विषय को कृषि संकाय के रूप में संचालित किए जाए। इसमें प्रमुख रूप से कृषि संकाय का कक्षा 11 में संचालन सत्र 2019-20 से शुरू होगा।

शिक्षा मंत्री ने जारी की स्वीकृति
बीकानेर.

सरकारी उच्च माध्यमिक विद्यालयों में कृषि विज्ञान विषय को कृषि संकाय के रूप शुरू करने की स्वीकृति राज्य सरकार ने जारी की है। शिक्षा मंत्रालय ने माध्यमिक शिक्षा निदेशक को इसके लिए निर्देश दिए हैं।


उन्होंने कहा है कि प्रदेश के 398 राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालयों में कृषि विज्ञान विषय को कृषि संकाय के रूप में संचालित किए जाए। इसमें प्रमुख रूप से कृषि संकाय का कक्षा 11 में संचालन सत्र 2019-20 से शुरू होगा। कृषि संकाय को फिलहाल विज्ञान संकाय के लिए पदस्थापित रसायन विज्ञान एवं जीव विज्ञान के व्याख्याता तथा कृषि विज्ञान के लिए पदस्थापित व्याख्याता से ही ऑपरेट किया जाएगा।

नामांकन में वृद्धि होती है, तो स्टाफिंग पैटर्न के आदेश 31 अप्रेल, 2015 के अनुसार पद स्वीकृत किए जाने के लिए अलग से विद्यालयवार प्रस्ताव भेजे जाएं। कृषि विषय को विज्ञान संकाय के एक विषय के स्थान पर अलग से कृषि संकाय के रूप में संचालित करने के लिए पाठ्यक्रम निर्धारण एवं अन्य आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

निदेशक ने किया स्कूल का निरीक्षण

बीकानेर. माध्यमिक शिक्षा निदेशक हिमांशु गुप्ता ने बुधवार को पलाना स्थित राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय का निरीक्षण किया। उन्होंने व्यवस्थाओं का जायजा लिया। छुट्टी होने से 15 मिनट पहले अचानक निदेशक के पहुंचने पर सभी स्टाफ हरकत में आ गया। उन्होंने बोर्ड परीक्षा परिणाम उन्नयन के लिए जारी विशेष कार्य योजना की क्रियान्वयन की प्रगति जानी एवं इस संबंध में शिक्षकों के सुझाव और अनुभव जाने। बोर्ड परीक्षा टॉपर मेधावी छात्रों की उत्तर पुस्तिकाओं के उपयोग एवं विषयवार जारी किए गए प्रश्न बैंक और प्री-बोर्ड अभ्यास परीक्षाओं के बारे जानकारी ली। निदेशक सीधे कक्षाओं में पहुंचे और विद्यार्थियों से वार्तालाप कर उनकी परीक्षा तैयारी के बारे में जाना। आईसीटी लैब में गए और कम्प्यूटरों की स्थिति देखी। इस दौरान शेर आलम खान, स्टाफ ऑफिसर डॉ. रोहताश कुमार आदि मौजूद रहे।

dinesh swami
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned