दो खाद्य निरीक्षकों के कंधों पर पूरे जिले से सैंपल लेने की जिम्मेदारी

bikaner news - food inspectors news bikaner

By: Jaibhagwan Upadhyay

Published: 07 Mar 2020, 10:25 AM IST

बीकानेर.

जिले में खाद्य पदार्थों की अनगिनत दुकानें खुली हुई है। तीज त्योहार पर मिलावटियों का जोर भी रहता है। इन पर अंकुश लगाने की जिम्मेदारी चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के पास है। लेकिन आज स्थिति यह है कि जिले में मात्र दो ही खाद्य निराक्षक ही कार्यरत हैं। इनके कंधों पर ही खाद्य पदार्थों के सैंपल लेने की जिम्मेदारी है।

लेकिन दुकानों तथा खुले में बिक रहे फल-सब्जी और अन्य खाद्य पदार्थों की नियमित जांच नहीं हो पाती है और न ही पर्याप्त संख्या में सैंपल लिए जा रहे हैं। ऐसे में तीज त्योहारों पर लोगों को दो-तीन दिन पुरानी मिठाई तथा अन्य खाद्य पदार्थ खरीदने को मजबूर होना पड़ता है। इस समय होली का त्योहार नजदीक है और कई दुकानों पर रंग-बिरंगी मिठाइयां भी सजकर तैयार हो गई है। हालांकि विभाग इन दुकानों पर कार्रवाई कर मिठाइयों तथा अन्य खाद्य पदार्थों के सैंपल भी ले रहा है।

लेकिन जांच का काम जयपुर होने के कारण रिपोर्ट समय पर नहीं मिल पाती है। जिले में आवश्यकता के अनुसार चार खाद्य निरीक्षकों के पद स्वीकृत है। इसमें से दो पदों पर कर्मचारी कार्यरत है। जबकि दो पद काफी लंबे समय से रिक्त पड़े हैं। इन पदों को भरने के लिए सरकार को कई बार प्रस्ताव भेजे हुए हैं लेकिन पदों को नहीं भरा जा रहा है। ऐसे में सैंपल लेने का काम प्रभावित होने लगता है। होली तथा दीपावली पर ही सैंपल के काम में गति होती है। अन्यथा कहीं से शिकायत आने पर जांच की जाती है।
चार पद स्वीकृत

जिले में खाद्य निरीक्षकों के चार पद स्वीकृत है। लेकिन दो पदों पर ही कार्मिकों की नियुक्ति की हुई है। रिक्त पदों को भरने के लिए सरकार को प्रस्ताव भेजा हुआ है। इसके अलावा होली पर जिले में सैंपल लेने का काम जारी है। इसके अलावा कहीं से शिकायत आने पर भी कार्रवाई की जाती है।
डॉ. बीएल मीणा, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी बीकानेर

Jaibhagwan Upadhyay Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned