गजक -तिलपट्टी की सजी दुकानें, सर्दी के साथ बढ़ी मांग

सर्दी से बचाव के लिए तिल, गुड और मूंगफली से बनी खाद्य वस्तुओं का बढ़ा उपयोग

By: Vimal

Updated: 18 Dec 2020, 12:43 AM IST

बीकानेर. शहर में सर्दी बढऩे के साथ ही तिल, गुड और मूंगफली से बनी खाद्य वस्तुओं का उपयोग बढ़ गया है। जगह-जगह गजक-तिलपट्टी की दुकानें सज गई है, जहां सुबह से देर शाम तक खरीदारी चल रही है। लोग सर्दी से बचाव के लिए तिल, गुड, मूंगफली से बने विभिन्न प्रकार की खाद्य वस्तुओं का उपयोग कर रहे है। दुकानों पर गजक, तिलपट्टी, तिल के लड्डू, रोस्टेड मूंगफली तिलपट्टी, रेवड़ी, राइस रोल आदि को खरीदने लोग पहुंच रहे है। सर्दी के मेवो से जुड़े व्यापारियों के अनुसार इस बार सर्दी बढऩे के साथ इनकी खरीद भी बढ़ी है। हालांकि ग्राहकों को पिछले वर्ष की तुलना में इस बार करीब ५ से ८ प्रतिशत तक महंगे गजक, तिलपट्टी और मूंगफली से बनी खाद्य वस्तुए मिल रही है।

 

मूंगफली दाना और डीजल के बढ़े भाव
सर्दी के मेवो को बनाने में काम आने वाली वस्तुओं के भावों में पिछले वर्ष की तुलना में हालांकि इस बार अधिक उछाल नहीं आया है, लेकिन मूंगफली दाना और डीजल के बढ़े दाम का असर गजक, तिलपट्टी और मूंगफली उत्पादों पर पड़ा है। व्यवसायी रवीन्द्र जोशी के अनुसार के इस बारा चीनी, तिल और मजदूरी में अधिक भाव नहीं बढ़े है, लेकिन मूंगफली का दाना और डीजल के दामों में जरुर बढ़ोतरी हुई है। जोशी के अनुसार गत वर्ष की तुलना में इस बार करीब 5 से 8 प्रतिशत तक इन उत्पादों के भाव बढ़े है।

 

बाहर भेजने पर पड़ा असर
बीकानेर में निर्मित गजक, तिलपट्टी और मूंगफली से बने उत्पादों की देश के विभिन्न स्थानों पर हर साल डिमांड बनी रहती है। इस बार कोरोना के कारण ट्रेनों की आवाजाही पर लगे लगाम और शादी विवाह आयोजन में बाहर से आने वाले मेहमानों की संख्या लगभग नहीं के बराबर रही है। इसका असर इन उत्पादों की बिक्री और बीकानेर से बाहर जाने पर पड़ा है। जोशी के अनुसार दिल्ली, कलकत्ता, मुम्बई, पूणे, चेन्नई, आसाम, रायपुर, जयपुर, जोधपुर आदि स्थानों पर बीकानेर में बने सर्दी के मेवे हर साल बड़ी मात्रा में जाते है। इस बार कुछ कमी आई है।

 

ऑनलाइन और कूरियर से मंगवा रहे
देश के विभिन्न स्थानों पर रह रहे बीकानेरवासी सर्दी के मौसम में गजक, तिलपट्टी और मूंगफली उत्पादों का स्वाद सैकड़ो किलोमीटर दूर बैठकर भी ले रहे है। जोशी के अनुसार बाहर रहने वाले लोग ऑनलाइन ऑर्डर कर कूरियर के माध्यम से सर्दी के मेवे बीकानेर से मंगवा रहे है।

 

घर-घर में हो रहा उपयोग
सर्दी बढऩे के साथ ही तिल, गुड और मूंगफली से बनी खाद्य वस्तुओं का उपयोग घर-घर में हो रहा है। शहर में रात को धूणों पर चल रही गपशप और पार्टो की चर्चाओं के दौरान भी तिल और गुड से बने खाद्य पदार्थ पहली पसंद बने हुए है।

 

दान-पुण्य की परम्परा
शहर में मलमास विशेषकर मकर संक्रांति पर तिल, गुड और मूंगफली से बने विभिन्न खाद्य पदार्थो के दान-पुण्य की विशेष परम्परा है। श्रद्धालु अपनी बहन, बेटियों और कुलगुरूओं के साथ विभिन्न मंदिरों में तिल और गुड से बनी खाद्य वस्तुओं का दान करते है।

 

इन स्थानों पर सजी दुकानें
शहर में जोशीवाड़ा, कोटगेट, पुरानी जेल रोड, सिटी कोतवाली के सामने, बड़ा बाजार, मोहता चौक, जस्सूसर गेट, नत्थूसर गेट, रामपुरा, गंगाशहर, फडबाजार, सार्दुल सिंह सर्किल के पास सहित विभिन्न स्थानों पर तिल, गुड और मूंगफली से बनी खाद्य वस्तुओं की दुकानें सज गई है।

Show More
Vimal Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned