scriptGovernment Sricts Against Officers, Frozen In Districts Against Rules | स्वास्थ्य विभाग पर सरकार की नजर, डेपुटेशन के बाद अब इन पर शिकंजा | Patrika News

स्वास्थ्य विभाग पर सरकार की नजर, डेपुटेशन के बाद अब इन पर शिकंजा

बीकानेर की बात करें, तो यहां सीएमएचओ के लिए वर्तमान में केवल एक ही अधिकारी सभी मापदंड पूरे करता है।

बीकानेर

Published: March 21, 2022 07:20:32 pm

बीकानेर. जिले में स्वास्थ्य सेवा की बागडोर संभालने वाले अधिकारी नियम विरुद्ध जमे हुए हैं, जो सरकार की ओर से तय किए गए मापदंड़ों को पूरा नहीं करते हैं। बीकानेर की बात करें, तो यहां सीएमएचओ के लिए वर्तमान में केवल एक ही अधिकारी सभी मापदंड पूरे करता है। ऐसे में सरकार प्रदेशभर में तय मापदंड़ों के विरुद्ध पदस्थापित अधिकारियों के संबंध में विचार कर रही है।

स्वास्थ्य विभाग पर सरकार की नजर, डेपुटेशन के बाद अब इन पर शिकंजा
स्वास्थ्य विभाग पर सरकार की नजर, डेपुटेशन के बाद अब इन पर शिकंजा

बीकानेर जिले पर एक नजर

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के पास बीसीएमओ व डिप्टी सीएमएचओ का अनुभव नहीं है और ना ही सरकार की तय ग्रेड पे। संभाग मुख्यालय पर पदस्थापित संयुक्त निदेशक भी गृह जिले के हैं, इसलिए योग्य नहीं हैं। इसके अलावा सीएमएचओ के लिए ब्लॉक मुख्य चिकित्सा अधिकारी/ उप मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी का अनुभव होना चाहिए। जो कि बीकानेर के मामले में नजर नहीं आता।

इन पर भी होगा विचार

उक्त पदों (सीएमएचओ, संयुक्त निदेशक) के लिए चयनित अधिकारी गृह जिले में पदस्थापित नहीं होगा। जिस अधिकारी के विरुद्ध विभागीय जांच लंबित अथवा प्रस्तावित है, उसका भी चयन नहीं किया जाएगा। किसी अधिकारी का चयन होने के बावजूद उसके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू होती है, तो उसे इस पदोन्नत श्रेणी से अलग कर दिया जाएगा.

यह कमेटी करेगी चयन

सरकार ने योग्य अधिकारियों का चयन करने के लिए एक कमेटी का गठन किया। कमेटी में अतिरिक्त मुख्य सचिव/प्रमुख शासन सचिव/शासन सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अध्यक्ष समेत मिशन निदेशक एनएचएम सदस्य, संयुक्त शासन सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य (ग्रुप 2) विभाग एवं पंचायती राज (चिकित्सा) विभाग, निदेशक (जन स्वास्थ्य) चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं एवं अतिरिक्त निदेशक (राजपत्रित) सदस्य होंगे।

इनका कहना है …

प्रदेशभर में बीसीएमओ, डिप्टी सीएमएचओ, सीएमएचओ एवं संयुक्त निदेशक के पदों पर पदस्थापन के लिए प्रक्रिया शुरू की जा रही है। योग्य अधिकारियों से 31 मार्च तक आवेदन मांगे गए हैं। - आशुतोष ऐ. टी पेडणेकर, शासन सचिव

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य (ग्रुप 2) विभाग सुधार के लिए बनी है पॉलिसी

प्रदेशभर में अधिकारियों के पदस्थापन के लेकर नई पॉलिसी तैयार की गई है। अब तक बिना मापदंड़ों के पदस्थापन कर दिए गए थे। इस बिगड़ी व्यवस्था को सुधारने के लिए पॉलिसी लागू की जा रही है। - केएल मीणा, निदेशक परिवार कल्याण चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं जयपुर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: राजस्थान ने बैंगलोर को 7 विकेट से हराया, दूसरी बार IPL फाइनल में बनाई जगहपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.