नोखा. गर्मी के तेवर दिनोंदिन तल्ख होते जा रहे हैं। दिन का तापमान ४० डिग्री सेल्सियस से पार पहुंच गया है। मंगलवार को सुबह की शुरुआत तेज धूप से हुई और दोपहर में तपिश भरी गर्मी से बाजारों व सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा। दोपहर में तेज धूप के कारण लोग घरों व कार्यालयों से बाहर निकलना भी पसंद नहीं कर रहे हैं। गर्मी से बाजारों में व्यापार भी प्रभावित होने लगा है। अप्रेल में ही तापमान ४० डिग्री पार पहुंच गया है। इससे मई व जून में और अधिक गर्मी पडऩे की आंशका अभी से लोगों को सता रही है। गर्मी में पसीने से तरबतर लोगों में प्यास की तलब बढ़ जाती है, ऐसे में सूखा गला तर करने के लिए शीतल पेय पदार्थों की मांग भी बढऩे लगी है। जूस की दुकानों व ठेलों पर भीड़ नजर आती है। वहीं बाजारों में तेज धूप से बचाव करने के लिए महिलाएं व युवतियां मुंह पर स्र्काफ बांधे और बच्चों को कपड़े में लपेटे नजर आती हैं।

 

 

पेट की खातिर
तपती दोपहरी में इन दिनों जहां लोग एसी, कूलर व पंखें छोड़कर बाहर नहीं निकलते हैं। वहीं आरामकश लोगों के बीच एक तबका ऐसा भी है। इनके सामने रोजाना सूर्योदय होते ही पेट की आग बुझाने का प्रश्न खड़ा होता है। परिवार के लिए दो वक्त की रोटी का जुगाड़ करने के लिए ऐसे मजदूर पेशा लोगों के सामने आग उगलते सूरज की तपिश बौनी है। दोपहर को ४० डिग्री से ऊपर चल रहे तापमान में खुले आसमां के नीचे यह लोग धधकती धौंकनी में तप रहे लोहे को आकार देते हैं। गर्मी इन्हें भी परेशान करती है, लेकिन पेट की खातिर ये हर हद तक गर्मी से भिडऩे को मजबूर हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned