scripthuman story abdul rashid | ... उसने मुड़े हाथों से ही सीधी कर दी किस्मत की लकीर | Patrika News

... उसने मुड़े हाथों से ही सीधी कर दी किस्मत की लकीर

बचपन से ही दिव्यांग शख्स ने दोनों हाथ मुड़े होने के बावजूद उन्हीं से कुछ करने का दिखाया जज्बान सिर्फ लिखना-पढ़ना, बल्कि मोटरसाइकिल चलाने जैसे काम कर संभाल ली परिवार की जिम्मेदारी

बीकानेर

Published: July 20, 2022 07:55:21 am

चंद्र प्रकाश ओझा

बीकानेर. आसमां में सु्राख करना शायद इसे ही कहते होंगे। वह जन्म से विकलांग है। दोनों हाथ मुड़े हुए हैं। पर हाथों की लकीरों में शायद कड़ी मेहनत से अपना मुकाम बनाने की लकीर कहीं छिपी हुई थी। इस शख्स ने उसी लकीर को गाढ़ा किया। न सिर्फ लिखना-पढ़ना सीखा। बल्कि सामान्य ढंग से पढ़ाई भी की। पारिवारिक झंझावातों ने उसे पढ़ाई तो न पूरी करने दी, लेकिन उसने मेहनत का दामन नहीं छोड़ा। बाइक चलाना सीखी। मेडिकल स्टोर पर सप्लायर बना। अब पांच सदस्यों का परिवार भी पाल रहा है और खुद की उन्नति के लिए सीढ़ी-दर-सीढ़ी चढ़ते हुए कोशिशें भी लगातार जारी रखे है। चौखुंटी फाटक के पास रहने वाले 23 साल के इस युवक को लोग अब्दुल रशीद के नाम से कम हौसलों से जीने वाले शख्स के रूप में ज्यादा जानते हैं।

... उसने मुड़े हाथों से ही सीधी कर दी किस्मत की लकीर
... उसने मुड़े हाथों से ही सीधी कर दी किस्मत की लकीर

बाल्यावस्था से मुड़े थे हाथ, किशोरावस्था में पिता का हाथ भी सिर पर न रहा

अब्दुल रसीद का जब जन्म हुआ, तो दोनों हाथ मुड़े हुए थे। गरीब माता-पिता के पास इतना पैसा नहीं था कि महंगा इलाज करा पाते । दोनो हाथों से जन्म से विकलांग अब्दुल रशीद जब अपने हमउम्र बच्चों को खेलते-लिखते देखता, तो उसका भी मन होता कि वह भी पढ़े, लेकिन हाथों की विकलांगता के कारण कोई भी काम ठीक से नहीं हो पाता था। माता-पिता ने हौसला दिया, तो अब्दुल ने हाथों में कलम थामी। शुरू में तो परेशानी हुई लेकिन कुछ करने का जज्बा अब्दुल रशीद के हौसले को बढ़ाता और उसने उन्हीं हाथों से लिखना शुरू किया। पढ़ने लिखने की लगन ने इस बालक को अपने भाग्य को कोसने की बजाय आगे बढ़ने की प्रेरणा दी।

कम मजदूरी पर पूरा काम का ऑफर दे संभाली जिंदगी

अब्दुल ने 11 वीं सादुल स्कूल से की ही थी कि पिता का साया सिर से उठ गया। किशोरवय इस बालक पर अपने बड़े भाई के साथ परिवार की जिम्मेदारी आ जाने से पढ़ाई छोड़नी पड़ी। काम की तलाश शुरू की, लेकिन हाथों की विकलांगता यहां भी आड़े आई। पर इस युवा ने हिम्मत नहीं हारी। भीख का रास्ता था उसके पास, लेकिन उसे चुनने की बजाय मजदूरी का रास्ता चुना, पर कौन देता उसे मजदूरी? लोगों को चाहिए पूरा काम। जहां भी मजदूरी मांगने जाता, लोग उसकी विकलांगता को देखकर काम देने से मना कर देते। घर की परिस्थितियां ऐसी नहीं थी कि पांच प्राणियों का गुजारा हो पाता। उसने अन्य मजदूरों से कम मजदूरी लेकर भी पूरा काम देने का ऑफर दिया। उसका परिणाम ये हुआ कि अब उसे मजदूरी मिलने लगी। लोगों ने उसे काम पर रखना शुरू कर दिया।

आज फर्राटे से बाइक चलाता है रशीद
अब्दुल रशीद ने इन्ही मुड़े हाथों से बाइक चलाना शुरू किया। अब्दुल रशीद की जुबानी शुरू में उसे बाइक चलाने में परेशानी तो आई लेकिन अब उसी बाइक से वह फर्राटे भरता है। परिणामस्वरूप होम्योपैथिक दवाइयों की दुकान में बाइक पर दवाइयों की सप्लाई शुरू की। इतना ही नहीं, होम्योपैथी की दवाइयों की बोतल को खोलकर अन्य छोटी-छोटी शीशियों में डॉक्टर-फार्मासिस्ट के निर्देशानुसार ऐसे भरता है, जैसे कोई सामान्य व्यक्ति भरता हो। इस समय वह सादुल स्कूल के सामने न्यू रामपुरिया कटले स्थित एक मेडिकल एजेंसी में स्वाभिमान के साथ काम करके अपने परिवार का घर चलाने में साथ दे रहा है। उसका कहना है कि स्वाभिमान से काम कर मेहनत की खाने में जो आनंद है, वह मांगकर खाने में कहां। लोगों की दया भी पेट पाल सकती है, लेकिन सुकून तो खुद की मेहनत से मिले खाने में ही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

श्रीनगर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, एक आतंकी को लगी गोली, जवान भी घायल38 साल बाद शहीद लांसनायक चंद्रशेखर का मिला शव, सियाचिन ग्लेशियर की बर्फ में दबकर हो गए थे शहीदराष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का देश के नाम संबोधन, कहा - '2047 तक हम अपने स्वाधीनता सेनानियों के सपनों को पूरी तरह साकार कर लेंगे'पंजाब में शुरु हुई सेहत क्रांति की शुरुआत, 75 'आम आदमी क्लीनिक' बन कर तैयार, देश के 75वें वर्षगांठ पर हो जाएंगे जनता को समर्पितMaharashtra: सीएम शिंदे की ‘मिनी’ टीम में हुआ विभागों का बंटवारा, फडणवीस को मिला गृह और वित्त, जानें किसे मिली क्या जिम्मेदारीलाखों खर्च कर गुजराती युवक ने तिरंगे के रंग में रंगी कार, PM मोदी व अमित शाह से मिलने की इच्छा लिए पहुंचा दिल्लीशेयर मार्केट के बिगबुल राकेश झुनझुनवाला की मौत ऐसे हुई, डॉक्टर ने बताई वजहBJP ने देश विभाजन पर वीडियो जारी कर जवाहर लाल नेहरू पर साधा निशाना, कांग्रेस ने किया पलटवार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.