भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तनाव का फिल्म, सीरियल की शूटिंग पर असर

भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तनाव का फिल्म, सीरियल की शूटिंग पर असर

By: rohit sharma

Published: 03 Mar 2019, 11:44 PM IST

दिनेश स्वामी/बीकानेर .

पुलवामा हमले से लेकर एयर स्ट्राइक और अभिनंदन की वतन वापसी तक भारत-पाक के बीच तनाव के हालात के चलते सीमावर्ती जिलों की फिल्म-सीरियल शूटिंग डेस्टिनेशन पर सन्नाटा पसर गया है। बीकानेर और आस-पास का क्षेत्र में एेतिहासिक पृष्ठभूमि की फिल्मों-सीरियल और बॉर्डर से जुड़े विषयों की फिल्मों, सीरियल और गानों की शूटिंग के लिए निर्माताओं की पसंद है। अब तनाव की स्थिति पैदा होने पर होटलों में फिल्म यूनिट रुकने के लिए कराई गई बुकिंग भी कैंसिल हो रही है। एक सप्ताह के दौरान तीन फिल्मों, टीवी सीरियल और वेब सीरीज की फरवरी के अंत और मार्च के प्रथम सप्ताह में शूटिंग के लिए आना कैंसिल किया गया है।

प्रदेश में फिल्म या सीरियल शूटिंग के लिए आने वाली युनिट बीकानेर, जैसलमेर और जोधपुर जिले में एक साथ शूटिंग करके जाती है।

कास्टिंग कॉर्डिनेटर और थियेटर निर्देशक दलीप सिंह भाटी ने बताया कि यह सही है कि सीमा पर तनाव के चलते सीमावर्ती जिले में फिल्म, सीरियल और वेबसीरीज की प्रस्तावित शूटिंग कैंसिल हुई है। फरवरी, मार्च और अप्रेल में कई बड़े बैनर की फिल्में, सीरियल और वेबसीरीज की शूटिंग यहां प्रस्तावित हैं। इनमें इमरान हाशमी की एक वेबसीरीज, चिरंजीवी लीड रोल वाली फिल्मी तथा कुछ सीरियल की शूटिंग टाल दी गई है।

बॉर्डर और गदर का डंका
भारत-पाक पर बनी बॉलीवुड की सुपरहिट फिल्म बॉर्डर, गदर और अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो की शूटिंग बीकानेर में हुई थी। क्षत्रिय, सरफरोश, रिफ्यूजी, एकलव्य, फिल्मीस्तान जैसी फिल्मों में यहां के सीन नजर आते है। हाल ही में एतिहासिक पृष्ठभूमि पर बनी फिल्म मणिकर्णिका की एक महीने तक बीकानेर में शूटिंग हुई।

होटल व्यवसाय पर असर
फिल्म शूटिंग के लिए आने वाली यूनिट के लोग यहां होटलों में ठहरते है। सालाना करीब १० से १५ करोड़ रुपए का कारोबार फिल्म, सीरियल, एलबम और प्री-वेडिंग शूटिंग के लिए यहां आने वाले लोगों के ठहरने आदि से होता है। स्थानीय कलाकारों को काम मिलने, हैरिटेज लुक की गाडि़यां व सामान किराया पर देने वाले, जूनागढ़, लक्ष्मीनिवास पैलेस सहित शूटिंग के लिए किराया मिलने वाली जगहों से दस से पन्द्रह करोड़ रुपए की आय होती है। स्थानीय ट्रांसपोर्ट कारोबारियों को काम मिलता है।

rohit sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned