सरकार के निर्देश, आपात स्थिति के लिए रखें पूरी तैयारी

पीबीएम में पांच-सौ बैड की व्यवस्था, दो आइसीयू

बीकानेर। कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए राज्य सरकार ने एसपी मेडिकल कॉलेज एवं पीबीएम अस्पताल प्रशासन को किसी भी आपदा से निबटने के निर्देश दिए हैं। कॉलेज व अस्पताल प्रशासन ने हरस्तर पर तैयारी कर ली है। दो कोरोनटाइन आइसोलेशन वार्ड, दो आईसीयू और तीन ओपीडी की व्यवस्था कर ली है। वहीं इसके अलावा सुपर स्पेशलयिटी सेंटर को रिजर्व में रखा गया है।

अतिरिक्त प्राचार्य एवं विभागाध्यक्ष डॉ. एलगौरी ने बताया कि सरकार के आदेश के बाद पीबीएम में केवल जनाना, मेडिसिन, पिडिया एवं टीबी अस्पताल की ओपीडी संचालित की जा रही है। पीबीएम अस्पताल डी, ई, एफ व एच वार्ड को खाली करा लिया गया। इन वार्डों के मरीजों को दूसरे वार्डों में शिफ्ट कर दिया गया।

कई मरीज छुट्टी लेकर गए घर
लॉकडाउन के बाद कई मरीज स्वत: ही छुट्टी लेकर घर चले गए हैं। अस्पताल में वर्तमान में केवल आपातकालीन ऑपरेशन और गंभीर रोगियों के इलाज के अलावा गर्भवती महिलाओं के उपचार की व्यवस्था सचाुरु रूप से चल रही है। वर्तमान स्थिति को देखते हुए पहले से भर्ती मरीज छुट्टी लेकर घर चले गए हैं। इतना ही नहीं जिन्हें ऑपरेशन होने थे वे अब २१ अप्रेल के बाद ऑपरेशन किए जाएंगे। ऑपरेशन ५० फीसदी कम हो गए हैं। वही पीबीएम के जनाना अस्पताल में अब प्रतिदिन ५० से ५५ डिलीवरी हो रही है जबकि आमदिनों में डिलीवरी ७० हो रही थी।

सात मरीज डिस्चार्ज, दो आईसीयू में
डॉ. गौरी ने बताया कि कोरोना वायरस की आशंका में १६ मरीज कोरोनटाइन आइसोलेशन वार्ड में भर्ती थे, जिनमें से सात को घर भेज दिया है, जिन्हें होम आइसोलेशन की हिदायत दी गई है। दो मरीज आइसीयू सीएएस में भर्ती है। राहत की बात है कि बुधवार को कोई नया मरीज भर्ती नहीं हुआ। वहीं दूसरी ओर स्वास्थ्य विभाग के एपिडियोमॉलोजिस्ट नीलम प्रतापसिंह ने बताया कि अब तक एक लाख १४ हजार ५७ घरों का सर्वे कर तीन लाख ८५ हजार ८१७ लोगों की स्क्रीनिंग की गई है, जिसमें से १० हजार ६१६ लोग सामान्य सर्दी जुकाम से पीडि़त पाए गए। १९६ लोगों को संदिग्ध के चलते अस्पताल भेजा। २३ लोगों की कोरोना की जांच कराई गई। १३३ लोगों होम आइसालेशन कराया जा चुका हैं।

ट्रोमा और ओपीडी विंग में सभी विभागों के चिकित्सक
३१ मार्च तक अस्पताल प्रशासन ने एहतिहात के तौर पर ट्रोमा सेंटर के आपातकालीन वार्ड में सर्जरी, ईएनटी, स्किन के चिकित्सकों को बैठाया गया है। वहीं नई ओपीडी विंग में अन्य सभी विभागों के चिकित्सकों के बैठने की व्यवस्था की गई है ताकि अस्पताल आने वाले मरीजों को किसी तरह की परेशानी न हो।

दवाइयां व फ्लूड पर्याप्त
वेयरहाउस ड्रग स्टोर प्रभारी गौरीशंकर जोशी ने बताया कि दवाइयां ७४९, निमोनिया के इंजेक्शन तीन महीने का स्टॉक है। एजिथ्रोमाइसिन टेबलेट पांच लाख है। सभी तरह के फ्लूड एक लाख से अधिक पड़ा है। वहीं पीबीएम के सेट्रल स्टोर में एन-९५ एक हजार, थ्री लेयर १५ हजार, सेनेटाइजर १५० उपलब्ध है। कोराना किट पहनने वाली २५०, सोडियम हाइपोक्लोराइड पांच लीटर, साबुन २० हजार उपलब्ध हैं।


सभी व्यवस्थाएं पूरी
सरकार के आदेश के बाद सभी व्यवस्थाएं कर ली गई है। दवाइयां पर्याप्त मात्रा में है। मास्क व सेनेटाइर मंगवा रहे हैं। पीबीएम में समाजसेवी भी इस विकट घटी में हरसंभव मदद कर रहे हैं।
डॉ. शैतानसिंह राठौड़, प्राचार्य एसपी मेडिकल कॉलेज

coronavirus
Jaiprakash Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned