सामाजिक चेतना, एकता और शिक्षा से होगा समाज का सर्वांगीण विकास

अंतरराष्ट्रीय जाट संसद का हुआ आयोजन

 

By: Vimal

Published: 11 Oct 2021, 05:32 PM IST

बीकानेर. जाट समाज की सामाजिक चेतना, एकता, उत्थान और शिक्षा के क्षेत्र में विकास को लेकर रविवार को मंडा इंस्टीट्युट ऑफ टेक्नोलोजी में अन्तरराष्ट्रीय जाट संसद का आयोजन हुआ। कार्यक्रम में समाज के युवाओं और प्रबुद्ध लोगों ने समाज की एकता, उत्थान, शिक्षा में विकास, बुराईयों को दूर करने सहित विभिन्न विषयों पर मंथन किया। इस अवसर पर अन्तरराष्ट्रीय जाट संसद के संयोजक रामावतार पलसानिया ने सामाजिक एकता, रोजगार सर्जन, कला, शिक्षा व साहित्य की तरफ ध्यान देने व समाज के चहुंमुखी विकास के लिए इनकी आवश्यक बताया। उन्होंने राजनीति के क्षेत्र में समाज के कम हो रहे प्रतिनिधित्व पर भी चिंता जताई। उन्होंने कहा कि जयपुर में मार्च २०२२ में अन्तरराष्ट्रीय जाट संसद का द्वितीय सत्र का आयोजन होगा। जिसमें विश्व के १३० देशों के जाट समाज के लोग शामिल होंगे।

 

एकजुटता पर बल

संयोजक पीएस कलवानियां ने कहा कि जाट समाज कष्टों व परेशानियों से जूझ रहा है । उन्होंने समाज की एकजुटता पर बल दिया। रामकिशन फाउंडेशन के सयोंजक बिशनाराम सियाग ने समाज को संगठित होने व शिक्षा पर बल देने तथा सामाजिक बुराईयों को छोडऩे की बात कही । डॉॅ. जगन सिंह गोरा ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय जाट संसद के आयोजन में बीकानेर के जाट समाज भी मुख्य भूमिका निभाएगा। इससे पहले रामावतार पलसानियां व पीएस कलवानियां के बीकानेर पहुंचने पर जाट समाज के प्रबुद्ध लोगों की ओर से स्वागत किया गया।

ये रहे मौजूद

कार्यक्रम में रामगोपाल मंडा, शंकर लाल सारण, प्यारेलाल स्योरण, रामेश्वर सारण, डॉ.बीरबल मील, डॉ. मुकेश बेरवाल, डॉ. राजेश नेहरा ने मुख्य भूमिकाएं निभाई। वहीं पेमाराम सारण, हाकम जांगू, रामचंद्र दुसाद, डॉ.मीनाक्षी चौधरी, सुमन चौधरी, सिंवरी चौधरी, हरि कुमार गोदारा, डॉ. बी के बेनीवाल, भरत ठोलिया, चेतराम थालोड, रामेश्वर जाखड़, डॉ. श्याम सुंदर ज्याणी, बीरबल मूण्ड, अमर डूडी, रामकुमार तरड, हडमान गोदारा, तोलाराम भादू, भोमराज गाट, हिमताराम भांभू, भागीरथ खींचड़ सहित समाज के गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

Vimal Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned